एक ट्वीट से आरपीएफ ने बचाई 26 लड़कियों की जिंदगियां

0
857

वो 26 ल़ड़किया नाबालिग थीं। उन्हें तस्करी कर ट्रेन में ले जाया जा रहा था। मगर दिस कोच में उन्हें ले जाया जा रहा था उसमें आदेश श्रीवास्तव नामक एक सजग यात्री भी था जिसे लड़कियों की हालत देखकर उनके साथ किसी तरह की अनहोनी होने का अंदाजा हो गया। बस आदेश ने एक ट्वीट किया  कि ” I am travelling in Awadh Exp (19040) in S-5, in my coach their are 25 girls. all are juvenile some of them are crying and all feeling unsecure’’ बस आनन फानन में ये ट्वीट गोरखपुर आरपीएफ को भेज दिया गया। मामला 5 जुलाई का है।

ट्वीट की गंभीरता को देखते हुए तत्काल वाराणसी, गोरखपुर लखनऊ आदि स्टेशनों पर तैनात आरपीएफ को सतर्क कर दिया गया। तत्काल कप्तान गंज  औऱ गोरखपुर आरपीएफ प्रभारी कार्रवाई करने लगे। गोरखपुर प्रभारी भास्कर सोनी ने त्तकाल चाइल्ट हेल्प लाइन औऱ एंटी हुमेन ट्रैफिकंग को सूचित कर दिया। कप्तान गंज स्टेशन पर जैसे ही अवध एक्सप्रेस पहुंची आरपीएफ की टीम ने बताे गए कोच पर कब्जा कर लिया और उसे वहां से गोरखपुर रेलवे स्टेशन लाया गया।

गोरखपुर में आरपीएफ औऱ दूसरे दलों की टीम पहले से ही तैनाक थी। त्तकाल कोट में कुछ सीटों पर बैठी नाबालिग लड़कियों से बात की गई  पता चला कि उन्हें शेख सफदर औऱ आसा शेख सफदर नाम के व्यकित अपने साथ ले जा रहे थे। पूछताछ में संजतोषजनक जवाब ना मिलने पर सबी लड़कियों को गोरखपुर चाइल्ड वेलफेटर कमेटी के हवाले कर दिया गया। पकड़े गए दोनों शख्स से पूछताछ जारी है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × 5 =