दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल के हत्थे ऐसे चढ़ा क्राइम की दुनिया का ‘बंदर’, देखें वीडियो

0
550

नई दिल्ली, इंडिया विस्तार। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने अतंर्राष्ट्रीय गैंगस्टर संदीप उर्फ बंदर उर्फ अमन को गिरफ्तार किया है। वह कौशल गैंग का शार्प शूटर है। गैंगस्टर कौशल मर्डर, एक्सटार्शन आदि के 200 से ज्यादा केसो में लिप्त रहा है। आजकल वह हिसार जेल में बंद है। साल 2017 से 2019 तक कौशल ने अपना गैंग शारजाह से संचालित किया था। गिरफ्तार संदीप उर्फ बंदर गैंगस्टर कौशल का दाहिना हाथ माना जाता है। उसका गैंग दिल्ली हरियाणा, राजस्थान और उत्तर प्रदेश में सक्रिय है। स्पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद कुशवाहा के मुताबिक 8 अप्रैल को एसीपी ललित मोहन नेगी, एसीपी ह्रदय भूषण की देखरेख में इंस्पेक्टर रविन्द्र कुमार त्यागी की टीम ने अवैध हथियारों के तस्कर यश शर्मा उसके तीन साथियों के साथ गिरफ्तार किया था। उसकी निशानदेही पर 15 पिस्टल, 20 जिंदा कारतूस बरामद किया गया था। पूछताछ के दौरान यश ने पुलिस को बताया कि वह सचिन उर्फ बंदर को भी हथियार सप्लाई करता है। जांच मे पता लगा कि सचिन उर्फ बंदर का असली नाम संदीप उर्फ बंदर उर्फ अमित है औऱ कौशल गैंग का शार्प शूटर है। वह गिरफ्तारी से बच रहा था हरियाणा पुलिस भी उसे तलाश कर रही थी। 15 जून को इंस्पेक्टर रविन्द्र त्यागी की टीम को सूचना मिली की गैंगस्चर संदीप उर्फ बंदर उर्फ अमित गुड़गांव के बघांकी गांव में है। पुलिस टीम ने छापा मारकर संदीप को गिरफ्तार कर लिया। उसके पास से .32 बोर का पिस्टल औऱ 4 जिंदा कारतूस बरामद हुआ। उसकी स्कार्पियो कार की तलाशी में एक और पिस्टल और 6 कारतूस बरामद किए गए। उसने पूछताछ में बताया कि अन्य आपराधिक गतिविधियों के अलावा कौशल गैंग के लिए वह अवैध हथियारों की खरीद भी करता है। संदीप के खिलाफ हत्या, हत्या की चेष्टा, एक्सटार्शन और पुलिस के साथ एनकाउंटर आदि के 10 मामले दर्ज हैं। पुलिस के मुताबिक संदीप कुख्यात गैंगस्टर कौशल के बचपन का दोस्त है। कौशल के बड़े भाई ने संदीप की चपलता को देखते हुए उसे बंदर नाम दिया था।

वीडियो-

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now