रंग ला रहा है पीएम मोदी का स्वच्छ भारत अभियान 18 लाख सैंपल सर्वे ने की पुष्टि

0
1170

18 लाख नागरिकों के साथ किए गए अब तक के सबसे बड़े सर्वे में ये बात सामने आई है कि पीएम मोदी के स्वच्छ भारत का सपना साकार होने की ओर है। सर्वेक्षण से पता चला है कि देश के शहरों औऱ कस्बों मे स्वच्छता को लेकर लोगों की सोच में बदलाव आया है।

स्वच्छ सर्वेक्षण-2017 से पता चला है कि स्वच्छता अभियान के तहत किए गए प्रयासों से शहरी इलाकों में सकारात्मक असर पड़ा है।शहरी विकास मंत्रालय द्वारा इस वर्ष जनवरी-फरवरी में कराये गये सर्वेक्षण में शहरों और कस्बों में स्वच्छता की स्थिति के बारे में उनकी धारणा जानने के लिए तैयार किये गये छह प्रश्नों के 18 लाख से अधिक नागरिकों ने जवाब दिए। इसके अलावा भारतीय गुणवत्ता परिषद के 421 सर्वेक्षकों ने 434 शहरों और कस्बों में 17,500 स्थानों का स्वयं जाकर निरीक्षण किया। जमीनी स्तर पर स्वच्छता का आकंलन करने के लिए तीसरे पक्ष द्वारा स्थान पर जाकर इन शहरों और कस्बों में 2680 आवासीय, 2680 व्यवसायिक और 2582 वाणिज्यिक तथा सार्वजनिक शौचालयों का निरीक्षण किया गया।

शहरी विकास मंत्री एम. वेंकैया नायडू ने सर्वेक्षण के निष्कर्षों पर मंत्रालय के अधिकारियों और सर्वेक्षकों के साथ विस्तृत चर्चा करने के बाद आज ट्वीट में कहा ‘सर्वेक्षण के परिणाम अति उत्साहजनक हैं। पिछले एक वर्ष में स्वच्छता की स्थिति में महत्वपूर्ण सुधार हुआ है। स्वच्छ भारत अभियान का असर जमीनी स्तर पर नजर आ रहा है। 434 शहरों और कस्बों का स्वच्छ रैंकिंग इस सप्ताह गुरूवार को घोषित किया जाएगा। रैंकिंग की तुलना में नागरिकों की धारणा और जमीनी स्तर की रिपोर्ट अधिक उत्साहवर्धक है।‘

दो महीने चले सर्वेक्षण के तहत कुल 37 लाख से अधिक लोग शामिल हुए।  सर्वेक्षण करवाने वाली भारतीय गुणवत्ता परिषद ने प्रतिक्रियाओं का सावधानीपूर्वक सत्यापन करने और एक से अधिक उत्तरों को हटाकर 18 लाख से अधिक प्रतिक्रियाओं पर विचार किया।

स्वच्छ सर्वेक्षण – 2017 के परिणाम के मुताबिक

  • 83 प्रतिशत से अधिक उत्तरदाताओं ने बताया कि उनका क्षेत्र पिछले वर्ष की तुलना में अधिक स्वच्छ हुआ।
  • 82 प्रतिशत से अधिक नागरिकों ने स्वच्छता बुनियादी ढांचा और अधिक कूड़ेदान की उपलब्धता तथा घर-घर जाकर कूड़ा एकत्रित करने जैसी सेवाओं में सुधार के बारे में बताया।
  • 80 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने सामुदायिक और सार्वजनिक शौचालयों तक बेहतर पहुंच के बारे में बताया।
  • 404 शहरों और कस्बों के 75 प्रतिशत आवासीय क्षेत्र में अधिक स्वच्छता देखी गई।
  • 185 शहरों में रेलवे स्टेशन के आसपास का पूरा इलाका स्वच्छ।
  • 75 प्रतिशत सामुदायिक और सार्वजनिक शौचालय हवादार थे तथा वहां पर्याप्त रोशनी और जल आपूर्ति थी।
  • 297 शहरों और कस्बों के 80 प्रतिशत वार्डों में घर-घर जाकर कूड़ा एकत्रित किया जा रहा है।
  • 226 शहरों और कस्बों में 75 प्रतिशत निर्धारित वाणिज्यिक क्षेत्रों में दो बार सफाई की जा रही है।
  • 166 शहरों और कस्बों में कूड़ा एकत्रित करने के लिए जीपीएस और आरएफआईडी आधारित वाहन चलाए जा रहे हैं।
  • 227 शहरों और कस्बों में स्वच्छता कर्मचारी के पदों की रिक्तियां दस प्रतिशत से कम हो गयी हैं और
  • 158 शहरों में आईसीटी आधारित उपस्थिति निगरानी की जा रही है।
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now