ऑपरेशन सतर्क यानि दिल्ली में व्यापक और सार्थक पेट्रोलिंग की नई शुरूआत

0
0

ऑपरेशन सतर्क, दिल्ली की साउथ वेस्ट पुलिस ने 11 अक्टूबर से यह योजना शुरू की है। व्यापक औऱ सार्थक पेट्रोलिंग किसी शहर की पुलिसिंग की सबसे मूल जरूरत है। व्यापक औऱ सार्थक पेट्रोलिंग से ना केवल त्योहारी मौसम में आतंकी और आपराधिक वारदातों को काबू करने में सफलता मिल सकती है बल्कि आम जनमानस में विश्वास और भयमुक्त वातावरण बनाने में भी मदद मिलती है। इसी के मद्देनजर दिल्ली की साउथ वेस्ट पुलिस ने एस नया प्रयोग शुरू किया है नाम रखा गया है ऑपरेशन सतर्क

ऑपरेशन सतर्क के दौरान गश्त

व्यापक और सार्थक पेट्रोलिंग के इस अभिनव प्रयोग में साउथ वेस्ट डीसीपी गौरव शर्मा सहित जिले के सभी डीसीपी, एसीपी, एसएचओ, महिला पुलिसकर्मी, एसआई, एएसआई, हेडकांस्टेबल और कांस्टेबल सहित सभी पुलिसकर्मी पैदल गश्त कर रहे हैं। इलाके के कोने-कोने औऱ चप्पे-चप्पे पर पुलिस की सतर्क निगाहें सुरक्षा व्यवस्था का जायजा ले रही हैं।

ऑपरेशन “सतर्क  दौरान पैदल गश्त करने वाली टीम चुने गए थाना क्षेत्र में बीट्स और हॉट स्पॉट पर गश्त करेगी। यह न केवल नियमित उपद्रव करने वालों पर एक व्यापक जांच की सुविधा प्रदान करेगा माना जा रहा है कि पुलिस का यह प्रयास नागरिकों के बीच विश्वास भी पैदा करेगा।
इसके अलावा, गश्त करना मुख्य रणनीति है, इस योजना में स्वतःस्फूर्त सार्वजनिक संपर्क, आंख और कान योजना का संचालन, स्थानीय इनपुट प्राप्त करने के लिए आरडब्ल्यूए / एमडब्ल्यूए के विभिन्न हितधारकों के साथ बैठक और वास्तविक कानून और व्यवस्था के बारे में प्रत्यक्ष प्रतिक्रिया भी शामिल होगी।  योजना का एक अन्य महत्वपूर्ण पहलू समाज के कमजोर वर्गों जैसे वरिष्ठ नागरिकों, महिलाओं और बच्चों की देखभाल करना होगा, ताकि वे अधिक सुरक्षित महसूस कर सकें और वरिष्ठ अधिकारियों के लिए मूल्यांकन योग्य हो सकें।

ऑपरेशन का उद्घाटन 11अक्टूबर की शाम को वसंत कुंज दक्षिण पुलिस थाने के रंगपुरी क्लस्टर में किया गया था। जिले के सभी 12 पुलिस स्टेशनों के 200 पुलिस कर्मियों और सभी एसएचओ, एसीएसपी, अतिरिक्त सहित बाहरी बल की 3 कंपनियां, डीसीएसपी और खुद डीसीपी गौरव शर्मा तलाशी अभियान के लिए पैदल गश्त कर रहे थे। इस पैदल गश्त के दौरान संकरी गलियों में 5 किलोमीटर से अधिक की दूरी तय की गई।
इस अभियान के दौरान आतंकवाद विरोधी उपायों को ध्यान में रखते हुए विभिन्न बाजारों/मॉलों/महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों और भारी भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों का मूल्यांकन/सुरक्षा ऑडिट किया गया है और अन्य हितधारकों को भी शामिल करते हुए तत्काल तैनाती की गई है। कर्मचारियों को आतंकवाद विरोधी उपायों के बारे में संवेदनशील बनाया गया है और पेशेवर तरीके से विघटनकारी तत्वों की किसी भी योजना को पहचानने और विफल करने के लिए जरूरी निर्देश दिए गए हैं। व्यापक और सार्थक पेट्रोलिंग के तहत घर-घर जाकर सर्वेक्षण करने पर जोर दिया जा रहा है, विशेष रूप से उन क्षेत्रों में जहां आसानी से किराये के आधार पर आवास उपलब्ध है और कोई भी विघटनकारी तत्व बिना पहचान के लंबी अवधि के लिए वहां रह सकता है।
थाना वसंत कुंज साउथ के क्षेत्र में गश्त के दौरान  6 हिस्ट्रीशीटरों की जांच की गई और उनमें से एक को बुक किया गया. यातायात नियमों के उल्लंघन के लिए कुल 7 दोपहिया वाहनों को जब्त किया गया और 14 लोगों को दिल्ली पुलिस अधिनियम के तहत हिरासत में लिया गया।
इस अभ्यास के परिणामस्वरूप वसंत कुंज दक्षिण पुलिस स्टेशन में प्राप्त पीसीआर कॉलों की संख्या में भारी कमी आई और प्राप्त कॉलों की औसत संख्या से 10 कम हो गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here