कुट्टू, सिंघाड़ा का आटा सेहत को देते हैं इतने सारे लाभ

"कुट्टू और सिंघाड़ा का आटा" ये दोनो नाम कौन नहीं जानता। व्रत आदि में तो इन दोनो तरह के आटा भारी डिमांड में रहते हैं। कौशिक एक्यूपंक्चर और पूरक चिकित्सा के संस्थापक डॉ. नीरज कौशिक ने अपने ब्लॉग में कुट्टू और सिंघाड़ा आटा के बारे में विस्तार से चर्चा की है। उन्होंने इन दोनो तरह के आटा से होने वाले लाभ के बारे में भी विस्तृत जानकारी दी है।  

0
141

Kuttu and singhara-“कुट्टू और सिंघाड़ा का आटा” ये दोनो नाम कौन नहीं जानता। व्रत आदि में तो इन दोनो तरह के आटा भारी डिमांड में रहते हैं। कौशिक एक्यूपंक्चर और पूरक चिकित्सा के संस्थापक डॉ. नीरज कौशिक ने अपने ब्लॉग में कुट्टू और सिंघाड़ा आटा के बारे में विस्तार से चर्चा की है। उन्होंने इन दोनो तरह के आटा से होने वाले लाभ के बारे में भी विस्तृत जानकारी दी है।  

यह भी पढ़ें-https://indiavistar.com/kakora-khane-ke-fayde/

कुट्टू आटा के लाभ

 कुट्टू प्रोटीन, फाइबर, विटामिन (बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन, विशेष रूप से नियासिन और फोलेट), और खनिज (मैग्नीशियम, फास्फोरस, मैंगनीज और तांबा) जैसे आवश्यक पोषक तत्वों का एक अच्छा स्रोत है। कुट्टू प्राकृतिक रूप से ग्लूटेन-मुक्त होता है, जो इसे सीलिएक रोग या ग्लूटेन संवेदनशीलता वाले लोगों के लिए एक उत्कृष्ट विकल्प बनाता है, जिन्हें गेहूं और अन्य ग्लूटेन युक्त अनाज से परहेज करने की आवश्यकता होती है। इसलिए यह डायबिटीक मरीजों के लिए भी लाभदायक है। कुट्टू में रुटिन, एक फ्लेवोनोइड होता है जो रक्त प्रवाह को बढ़ावा देने, कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और स्वस्थ रक्तचाप का समर्थन करके हृदय स्वास्थ्य (Heart Health) को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। कुट्टू की उच्च फाइबर सामग्री कार्बोहाइड्रेट के पाचन और अवशोषण को धीमा करने में मदद कर सकती है, जिससे रक्त शर्करा (Blood Sugar) नियंत्रण बेहतर होता है, जिससे यह मधुमेह वाले व्यक्तियों या मधुमेह के विकास के जोखिम वाले लोगों के लिए फायदेमंद हो जाता है। कुट्टू में मौजूद फाइबर कब्ज में लाभ पहुंचाता है। कुट्टू एंटीऑक्सीडेंट का एक समृद्ध स्रोत है, जिसमें टैनिन और कैटेचिन जैसे फेनोलिक यौगिक शामिल हैं। ये एंटीऑक्सिडेंट शरीर में मुक्त कणों को बेअसर करने, कोशिकाओं को ऑक्सीडेटिव तनाव से बचाने और पुरानी बीमारियों के जोखिम को कम करने में मदद करते हैं। यह वजन प्रबंधन (Weight Management) में भी मददगार है। कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि अनाज में कुछ यौगिकों, जैसे कि क्वेरसेटिन, में सूजन-रोधी गुण हो सकते हैं, जो सूजन की स्थिति वाले व्यक्तियों के लिए फायदेमंद हो सकते हैं। कुट्टू में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट यूवी किरणों और प्रदूषण से होने वाले ऑक्सीडेटिव नुकसान से बचाकर त्वचा के बेहतर स्वास्थ्य में योगदान कर सकते हैं। कुछ शोध बताते हैं कि उच्च एंटीऑक्सीडेंट सामग्री और सूजन-रोधी प्रभावों के कारण अनाज में कैंसर-विरोधी गुण हो सकते हैं, लेकिन इस क्षेत्र में अधिक शोध की आवश्यकता है। यह ध्यान रखना आवश्यक है कि जबकि कुट्टू एक अत्यधिक पौष्टिक भोजन है, इसके स्वास्थ्य लाभ सबसे अच्छे तब प्राप्त होते हैं जब संतुलित आहार के हिस्से के रूप में सेवन किया जाता है जिसमें विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थ शामिल होते हैं। 

लिंक क्लिक कर औऱ जानें-सिंघाड़ा आटा के लाभ

सिंघाड़ा का आटा भारत में उपवास के दौरान इस्तेमाल किया जाने वाला एक लोकप्रिय घटक है। इसे सूखे और पिसे हुए सिंघाड़े से बनाया जाता है। यह अपने अनूठे पोषक तत्व के कारण विभिन्न स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है। सिंघाड़े का आटा प्राकृतिक रूप से ग्लूटेन-मुक्त (Gluten Free) होता है, जो इसे सीलिएक रोग या ग्लूटेन संवेदनशीलता वाले लोगों के लिए एक उत्कृष्ट विकल्प बनाता है। यह गेहूं, सोया, डेयरी और नट्स जैसे प्रमुख एलर्जी कारकों से भी मुक्त है, जो इसे खाद्य एलर्जी वाले व्यक्तियों के लिए एक सुरक्षित विकल्प बनाता है। सिंघाड़ा आटा में कैलोरी और वसा अपेक्षाकृत कम होती है, जिससे यह उन लोगों के लिए एक उपयुक्त विकल्प है जो अपना वजन नियंत्रित करना चाहते हैं या कैलोरी का सेवन कम करना चाहते हैं। आटा जटिल कार्बोहाइड्रेट का एक अच्छा स्रोत है, जो ऊर्जा की निरंतर भरपाई प्रदान करता है, जो उपवास के दौरान या पूरे दिन निरंतर ऊर्जा के लिए फायदेमंद हो सकता है। सिंघाड़े का आटा आहारीय फाइबर से भरपूर होता है, जो पाचन में सहायता करता है, आंत्र नियमितता को बढ़ावा देता है और स्वस्थ आंत का समर्थन करता है। सिंघाड़ा का आटा पोटेशियम, मैंगनीज और तांबे जैसे खनिजों का एक अच्छा स्रोत है, जो शरीर में विभिन्न शारीरिक कार्यों के लिए महत्वपूर्ण हैं। सिंघाड़े के आटे में उच्च पोटेशियम सामग्री रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद कर सकती है, जिससे हृदय स्वास्थ्य का समर्थन होता है।  सिंघाड़े के आटे में अपेक्षाकृत कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स होता है, जिसका अर्थ है कि यह रक्त शर्करा के स्तर में धीमी और क्रमिक वृद्धि का कारण बनता है। यह गुण मधुमेह वाले व्यक्तियों के लिए उनके रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित करने में फायदेमंद हो सकता है। सिंघाड़े में विटामिन सी जैसे एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने और शरीर को संक्रमण और बीमारियों से बचाने में मदद कर सकते हैं। सिंघाड़े में पानी की मात्रा अधिक होती है, जो जलयोजन में योगदान कर सकता है और शरीर में जल-इलेक्ट्रोलाइट संतुलन बनाए रखने में मदद कर सकता है। सिंघाड़े के आटे में आवश्यक बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन जैसे राइबोफ्लेविन, थियामिन और विटामिन बी 6 होते हैं, जो ऊर्जा चयापचय और समग्र कल्याण के लिए आवश्यक हैं।

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि indiavistar.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.