भटको को राह दिखा रहे हैं दिल्ली पुलिस के संकल्प और युवा

0
70

नई दिल्ली, इंडिया विस्तार। दिल्ली पुलिस के युवा और संकल्प भटके युवाओं को सही रास्ते पर लाने का काम तेजी से करने लगे हैं। एक कदस सुनहरे भविष्य की ओर योजना के तहत् दिल्ली पुलिस कमिश्नर एस एन श्रीवास्तव ने बहुराष्ट्रीय कंपनी और दूसरी जगहों पर नौकरी लिए चयनित नाबालिग अपराधिओं को नियुक्ति पत्र प्रदान किया। इसके पहले दिल्ली पुलिस ने जॉब फेयर भी लगाया। 2 नवंबर से शुरू हुए इस जॉब फेयर में 600 युवाओं/नाबालिग अपराधियों ने विभिन्न कंपनियों को साक्षात्कार दिए। दिल्ली पुलिस आयुक्त एस एन श्रीवास्तव ने दिल्ली के भटके युवाओं को सही रास्ता दिखाने के लिए अभियान चलाने का निर्देश दिया है।

दिल्ली पुलिस के संकल्प योजना के तहत् अपराध में शामिल नाबालिगों और भटके हुए युवाओं को मुख्य धारा में लाने की कोशिश की जाती है। इसके तहत् ऐसे युवाओं की पहचान कर उनकी क्षमता औऱ रूचि के मुताबिक प्रशिक्षण दिया जाता है। ऐसे इलाके जहां इस तरह के युवा और नाबालिगों की बहुतायत है पुलिस वहां नुक्कड़ नाटक औऱ खेल के जरिए जागरूकता अभियान भी चलाती है। ऐसे युवाओं को कानून और व्यवस्था को बनाए रखने में मदद के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

पिछले दिनो पश्चमी दिल्ली के 12 थानो में 16-23 साल के नाबालिग और युवाओं का चुनाव कर उन्हें प्रशिक्षण के लिए चुना गया। इस क्रम में 178 नाबालिग अपराधियों को भी चुना गया था। ये सभी पिछले तीन साल के दौरान आपराधिक गतिविधियों में सक्रिय पाए गए थे। इनमें से 36 युवकों को लॉकडाउन के दौरान ऑनलाइन ट्रेनिंग दी गई। राजौरी गार्डन थाना ट्रेनिंग सेंटर में इन्हें ऑफलाइन ट्रेनिंग भी दी गई। इनके लिए कई काउंसलिंग शिविरों का भी आयोजन किया गया। प्रशिक्षित युवाओं के लिए पुलिस ने विभिन्न कंपनियों से संपर्क साधा और 31 अक्टूबर को पश्चिमी दिल्ली में इनके लए जॉब फेयर का आयोजन किया गया। इसमें 104 युवाओं को नौकरी लिए चुना गया था। जॉब फेयर में हिस्सा लेने वाले 36 नाबालिग अपराधियो में से 19 को भी नौकरी मिली जिसमें से 4 को 36 हजार रुपये प्रति माह वेतन की नौकरी मिली है।

जनकपुरी में आयोजित सादे समारोह में दिल्ली पुलिस आयुक्त एस एन श्रीवास्तव ने इन सबको नियुक्ति पत्र प्रदान किया। इस मौके पर स्पेशल सीपी संजय सिंह और ज्वांयट सीपी शालिनी सिंह भी मौजूद थीं।

इसी तरह युवा कार्यक्रम के तहत् लगने वाले वर्चुअल जॉब फेयर को संबोधित करते हुए दिल्ली के सीपी एस एन श्रीवास्तव ने हिस्सा लेने वाले नाबालिग अपराधियों और युवाओं को अतीत भूलाकर भविष्य की ओर देखने की अपील की। उन्होंने नौकरी के इच्छुक युवाओं से अपने क्षेत्र में अच्छा करने के लिए कहा। उन्होंने दिल्ली पुलिस से भी इस तरह के कार्यक्रम को लगातार चलाने का निर्देश दिया।

अलीपुर के जीओ मेस में आयोजित जॉब फेयर में दिल्ली पुलिस के सभी 15 जिलों से 600 नाबालिग और युवाओं ने हिस्सा लिया था। 16 प्रतिष्ठित कंपिनयों ने इस जॉब फेयर में हिस्सा लिया था। दिल्ली पुलिस ने 2-4 नवंबर तक के तीन दिवसीय वर्चुअल जॉब फेयर आयोजित किया था। इस जॉब फेयर में 12 से 20 हजार रुपये तक की नौकरी थी। इस कार्यक्रम की शुरूआत युवा के नोडल अफसर और संयुक्त पुलिस आयुक्त देवेश श्रीवास्तव ने की। इस अवसर पर उत्तरी जिला पुलिस उपायुक्त एंटो अल्फोंस ने भी  धन्यवाद ज्ञापन दिया।

इसके अलावा लाजपत नगर, हौजखास औऱ वसंत कुंज में भी युवा कार्यक्रम के तहत् रोजगार मेले का आयोज किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

eleven + 17 =