व्हाट्सअप पर चल रहे इंटरनेशनल ड्रग रैकेट का एनसीबी ने किया पर्दाफाश

0
944

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने व्हाट्सअप पर चल रहे इंटरनेशनल ड्रग रैकेट का पर्दाफाश किया है। इस रैकेट के तार ब्राजील, वेनेजुएला से लेकर नाईजीरिया तक जुड़े हुए हैं। एनसीबी ने इस सिलसिले में वेनेजुएला की महिला और नाईजीरिया के पुरूष को गिरफ्तार किया है। इनके कब्जे से सवा किलो कोकीन बरामद की गई है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में इस कोकीन की कीमत 7.5 करोड़ बताई जाती है। पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ में दो अहम खुलासे हुए है पहला व्हाट्स अप पर चल रहे ड्र्ग तस्करी का और दूसरा तस्करी में महिलाओं को किस तरह इस्तेमाल किया जा रहा है।

https://youtu.be/cSahCoDF7_Y

एनसीबी के उतरी रेंज के डीडीजी एस के झा के मुताबिक सूचना मिली थी कि 20 नवंबर को वेनेजुएला से आई एक महिला महिपालपुर के एक होटल में कोकीन की सप्लाई करेगी। इस सूचना के आधार पर एनसीबी ने उपरोक्त होटल में जाल बिछाया। एनसीबी टीम को एक महिला संदिग्ध हालत में होटल में आती हुई दिखी जिसके हाथ में ट्राली बैग था रिसेप्शन पर बात करने के बाद महिला अपने कमरे में चली गई। कुछ देर बाद ही अफ्रीकी मूल का एक पुरूष उस महिला के कमरे में पहुंचा। दोनों की संदिग्ध गतिविधियों के मद्देनजर एनसीबी की टीम भी कमरे में पहुंच गई। तलाशी के दौरान महिला के ट्राली बैग में बनाए गए विशेष कैविटी से एनसीबी टीम को  सवा किलो कोकीन बरामद हुआ। पूछताछ में महिला की पहचान वेनेजुएला निवासी ब्रिगेट डेल वैले रोड्रिग्यूज सैंतोवो के रूप में हुई। उसने विस्तृत पूछताछ में बताया कि वह दिल्ली 20 नवंबर को इथोपियन एयरलाइंस की फ्लाइट से पहुंची है। इसके पहले वह 9 नवंबर को वह वेनेजुएला से ब्राजील सड़क के रास्ते पहुंची थी। जहां साओ पाउलो से आदिस अबाबा इथोपियन एयरलाइंस से 19 नवंबर को पहुंची।

अनुवादक की मदद से पूछताछ के दौरान एनसीबी को महिला ने बताया कि साओ पाउलो में उसे एक ब्राजील निवासी नाईजीरियन इमैनुएल ने ट्राली बैग दिया। जब महिला दिल्ली के होटल में सुरक्षित पहुंच गई तब उसे व्हाट्सअप के जरिए उसे होटल की डिटेल्स औऱ अपना फोटो भेजने के लिए बोला गया। जैसे ही उसने व्हाट्स अप पर अपना फोटो औऱ होटल की जानकारी भेजी उसके पास व्हाट्स अप पर एक नाईजीरियन का फोटो भेजा दिया गया। उसे बताया गया कि व्हाटस अप पर जिस नाईजीरियन का फोटो भेजा गया है वही ट्राली बैग लेने आएगा और इसके बदले में ब्रिगेट को 3 हजार यूएस डालर मिलना था। उसके पास बैग लेने पहुंचे पुरूष से पूछताछ में उसकी पहचान ओकोरो कोलिन्स उका के रूप में हुई। वह नाईजीरिया का निवासी है। पूछताछ में उसने बताया कि वह इसी होटल में 19 तारीख से ही रूका हुआ है। जहां वह मुंबई से आया था। वह  भारत 27 अक्टूबर को पहुंचा पिछले 5 साल में यह उसकी 12 वीं भारत यात्रा थी। उसे ब्राजील में रहने वाले चुकागो नाम के नाईजीरियाई से निर्देश मिलते थे। उसे व्हाट्स अप पर पर महिला का फोटो भेजा गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × one =