कार्टून के डिब्बे से खुला कत्ल का ये राज

0
752

इक्कीस जून की सुबह सुबह दिल्ली  के सरिता विहार पुलिस को एक महिला की सात टुकड़ो में लाश मिली थी। कार्टून के डिब्बे और काले रंग के बैग में  मिली लाश ने पुलिस के हाथ पांव फुला दिए। बड़ी चुनौती लाश के शिनाख्त की थी। इस सनसनीखेज हत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त अमित शर्मा के नेतृत्व औऱ सरिता विहार एसीपी ढाल सिंह की देखरेख में सरिता विहार एसएचओ मुकेश कुमार औऱ दूसरे पुलिसकर्मियों की टीम बनाई गई।  

लेकिन सबसे बड़ी समस्या शव के पहचान की थी। दिल्ली एनसीआर के सभी गुमसुदा रिपोर्ट की जांच कर ली गई मगर शव की शिनाख्त नहीं हो रही थी।

ऐसे मिला सुराग– पुलिस के पास अगर कुछ था तो सिर्फ कार्टून के डिब्बे पर छपा मूवर्स एंड पैकर्स का नाम। कंपनी गुड़गांव की थी। आखिरकार पुलिस ने इसी नाम के सहारे आगे बढ़ने का फैसला किया। पुलिस पहुंची मूवर्स एंड पैकर्स की कंपनी में रिकार्ड खंगाला गया औऱ पता चला कि कार्टून में दुबई से अलीगढ सामान गया था। पता चला कि ये सामान जावेद नाम के शख्स का था। जो अलीगड़ का रहने वाला था और शारजाह से सामान आया था। पुलिस जावेद की तलाश करने लगी। पता लगा कि वो बांदा में हो सकता है।

कातिल का सुराग-पुलिस ने जावेद के घर डेरा डाला औऱ जैसे ही वह अपने घर पहुंचा पुलिस ने उसके साथ कड़ा पूछताछ की। पता लगा कि कार्टून में से कुछ तो उसने कामवाली को दे दिए थे औऱ कुछ उसके घर पर रखे थे। कातिलकी तलाश कर रही पुलिस को अब लापता हुए कार्टून की तलाश थी। लिहाजा कामवाली का घर छाना गया उसके घर सभी कार्टून मिल गए। इसके बाद फिर जावेद से बातचीत की गई। जावेद ने पुलिस को ये भी बताया कि उसका एक घर दिल्ली के शाहीन बाग में है। और जब वह शारजहां से काम छोड़कर आया था तो सबसे पहले उसने वहीं पर सामान मंगवाया था। लेकिन दिल्ली का उसका घर खाली पड़ा है। लेकिन उसने ये भी बताया कि इसी साल मार्च में एक प्रोपर्डी डीलर के कहने पर उसने उस घर को किराए पर दिया है। उसने ये भी बताया कि कुछ खाली कार्टून दिल्ली के उसके फ्लैट पर पडे हैं। पुलिस अब दिल्ली पहुंची औऱ पता लगा कि जावेद के किराएदार साजिद अली ने फ्लैट को किराए पर लिया था औऱ अपनी पत्नी औऱ दो बच्चियों के साथ रह रहा था। मगर कुछ दिन पहले उसने जावेद को बोलकर घर खाली कर दिया था। पुलिस साजिद की तलाश में जुटी। पता लगा कि साजिद बीटेक है लेकिन बेरोजगार था। सघन जांच के बाद पुलिस साजिद औऱ उसके दो भाईयों को गिरफ्तार करने में कामयाब हो गई। पता लगा कि साजिद अपनी पत्नी जूही से पीछा छुडाना चाहता था इसीलिए उसकी हत्या कर शव के सात टुकड़े किए औऱ कार्टून में पैक कर जंगल में फेंक आया। इस काम में उसके दोनों भाईयों ने उसकी मदद की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ten − 4 =