“Let’s Inspire Bihar !” को समझिए, जानिए आईपीएस विकास वैभव ने क्यों शुरू किया ये अभियान

0
981
आलोक वर्मा
नई दिल्ली। “Let’s Inspire Bihar !” एक ऐसा अभियान जो युवाओं के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है। एक ऐसा अभियान जो बिहार के गौरवशाली अतीत के माध्यम से युवाओं में छा रही उदासीनता, हताशा और व्याकुलता को हराने की कोशिश हो रही है। एक ऐसा अभियान जो इंजीनियरिंग की शिक्षा, पेशे से आईपीएस और स्वभाव से इतिहास के प्रेमी विकास वैभव ने बहुत बड़े मकसद के साथ शुरू की है। ऐसा अभियान जिसमें बड़ी संख्या में अप्रवासी बिहारी भी जुड़ रहे हैं।

वैसे तो आईपीएस विकास वैभव के व्यक्तित्व की कई खूबियां है जिसके कारण उनकी चर्चा की जाती है. देश की ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विरासत पर उनके द्वारा लिखे जाने वाले ब्लॉग ‘Silent Pages : Travels in the Historical Land of India’ के कारण  वह चर्चा मे बने रहते हैं। इस ब्लॉग में वह ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विरासत के बारे में वह विस्तार से लिखते हैं, जिसका फायदा खास रूप से उन छात्रों को हो रहा है जो इन विषयों पर रिसर्च करते हैं।

इसे भी देखें

 

वैभव का खुद का एक यूट्यूब चैनल भी है, जो आज उन उम्मीदवारों के लिए मार्गदर्शक के रूप में काम कर रहा है जो सिविल सर्विसेज में अपना करियर बनाना चाहते हैं। उम्मीदवारों ने उन्हें  “गुरु कॉप” यानी गुरुजी का नाम दिया है।  बता दें, ‘ Vikas Vaibhav, IPS’ नाम के इस चैनल पर उनके 2 लाख के करीब सब्सक्राइबर्स हैं।

IPS वैभव का पर्यावरण और ऐतिहासिक धरोहरों से शुरू से ही विशेष प्रेम रहा है। साथ ही वह फोटोग्राफी का भी शौक रखते हैं।

विकास वैभव “राष्ट्र निर्माण में युवाओं की भूमिका” तथा “सफलता के सूत्रों” समेत अनेक विषयों पर भौतिक समेत डिजिटल माध्यमों से लंबे समय से बिहार के विभिन्न क्षेत्रों के युवाओं से संपर्क में हैं। इस बिहार दिवस पर जब अपनी अवधारणा को और स्पष्ट करते हुए उन्होंने आह्वान स्वरूप “Let’s Inspire Bihar !” शीर्षक का प्रयोग एक हैशटैग #LetsInspireBihar के साथ किया, तब से ही अनेक युवा इसके संदर्भ में अपनी जिज्ञासाओं को व्यक्त करते रहे हैं ।

उनके मुताबिक  “Let’s Inspire Bihar !”  क्या है और इसके अंतर्गत करना क्या है इस तरह समझिए –

1. अपनी समृद्ध विरासत तथा स्वयं की क्षमता को जानिए एवं समझिए ।

2. मानवीय क्षमता के चरमोत्कर्ष की चर्चा करते हुए मैंने उपनिषदों के अत्यंत प्रेरणादायक एवं महत्वपूर्ण श्लोक

“ऊँ पूर्णमदः पूर्णमिदं पूर्णात् पूर्णमुदच्यते ।
पूर्णस्य पूर्णमादाय पूर्णमेवा वसिष्यते ।।”

को अनेक अवसरों पर उद्धृत किया है जिसमें यह वर्णन मिलता है कि पूर्ण को खंडित करने पर भी हर खंड पूर्ण ही रहता है और पुनः पूर्ण में ही विलीन हो जाता है; अर्थात् हर आत्मा जो परमात्मा का ही अंशरूप है उसमें उसके सभी गुण समाहित हैं । ऐसे में युवा मन में अपने सामर्थ्य के प्रति किसी प्रकार का संदेह न हो इसके लिए यह अनुभूति आवश्यक है कि ईश्वर (पूर्ण) की वह असीम शक्ति सभी के अंदर पूर्णतः समाहित है और सदैव सही मार्गदर्शन हेतु तत्त्पर भी है । ऐसे में कहीं और न देखकर यदि हम एकाग्रचित्त होकर गहन आत्मचिंतन करेंगे तो सभी के लिए स्वयं मार्गदर्शक तथा इच्छित परिवर्तन के प्रबल वाहक बन जाऐंगे ।

3. यह समझना होगा कि स्वयं के सामर्थ्य को जाने बिना जब कई बार दूसरों के अनुसरण के कारण हम अपने मूल्यों से दिग्भ्रमित हो जाते हैं, तब हमारा अपनी मूल क्षमताओं से विश्वास डिग जाता है, जो सर्वथा अनुचित है ।

4. यह समझना होगा कि यदि हम प्रतिकूल परिस्थितियों के समक्ष निराश होते हैं तो हम युवावस्था में समाहित उस असीम उर्जा के स्रोत से संभवतः स्वतः विच्छिन्न होते जाते हैं जिसके मूल में आशावादिता एवं सकारात्मकता सन्निहित है ।

5. यदि अपने पूर्वजों के कृतित्वों से आप प्रेरित हैं और स्वयं की असीमित क्षमताओं के विषय में स्पष्ट हैं तो केवल स्वयं तक सीमित मत रहिए, इस अद्भुत प्रेरणा का प्रसार कीजिए ।

6. लघुवादों यथा जातिवाद, संप्रदायवाद, लिंगभेद आदि संकीर्णताओं से परे उठकर बिहार तथा भारत के उज्ज्वलतम भविष्य के निर्माण हेतु बृहत् चिंतन करें तथा दूसरों को भी प्रेरित करें ।

7. प्रेरित युवा संगठित होने का प्रयास करें जिससे नकारात्मकता के विरुद्ध युद्ध हेतु संकल्पित सकारात्मक विचारों की शक्ति प्रबल हो उठे । संगठन को बृहत् स्वरूप प्रदान करने हेतु “Let’s Inspire Bihar” के जिलावार चैप्टरों से सोशल मीडिया एवं भौतिक माध्यमों से जुड़ें जिनकी स्थापना आपके जिले के प्रेरित युवा समन्वयकर्ताओं द्वारा की जा रही है । बिहार के सभी जिलों के युवाओं और अप्रवासी बिहारवासियों के लिए भी प्रारंभ में सोशल मीडिया के माध्यमों ही चैप्टरों को प्रारंभ किया जा रहा है जिनसे जुड़ने के लिए आप अपने जिले या नगर से संबंधित फेसबुक पेज से जुड़ सकते हैं अथवा [email protected] पर अपने नाम, उम्र, जिला का नाम और दूरभाष संख्या के साथ इमेल कर सकते हैं ताकि आपके क्षेत्र से संबंधित समन्वयकर्ता आपसे संपर्क स्थापित कर सकें ।

8. प्रेरित युवाओं के साथ अपने व्यस्त समय में से कुछ समय सकारात्मक सामाजिक गतिविधियों के निमित्त चिंतन एवं योगदान हेतु भी समर्पित करें ।

9. जो लघुवादों से ग्रसित हैं तथा दिग्भ्रमित हो रहे हैं उनके मार्गदर्शन हेतु अपने स्तर से भी प्रयास करें । उन्हें समझाने का प्रयास करें कि यदि व्यक्ति अपने वास्तविक सामर्थ्य को जान ले तथा सफलता प्राप्त करने के निमित्त अत्यंत परिश्रम करे तो कोई भी लक्ष्य असाध्य नहीं रह जाता । मिलकर, हम निश्चित ही राष्ट्रहित में अपने जीवन काल में कुछ उत्कृष्ट योगदान समर्पित कर सकते हैं ।

10. सकारात्मकता विचारों एवं प्रेरणादायक उदाहरणों को सोशल मीडिया पर #LetsInspireBihar हैशटैग के साथ साझा करें ।

भविष्य परिवर्तन के निमित्त युवाओं द्वारा संकल्पित सकारात्मक चिंतन एवं योगदान ही बिहार के उज्ज्वलतम भविष्य की दिशा स्थापित करने का एकमात्र विकल्प है । इतिहास की प्रेरणा में ऐसी अद्भुत शक्ति समाहित है जो बिहार समेत संपूर्ण भारतवर्ष के भविष्य को परिवर्तित करने की क्षमता रखती है । मन भविष्यात्मक दृष्टिकोण के निमित्त विशेषकर युवाओ से स्वरचित पंक्तियों के माध्यम से आह्वान करना चाहता है –

“पूर्व प्रेरणा करे पुकार, आओ मिलकर गढ़ें नव बिहार ।
नव चिंतन नव हो व्यवहार, लघु वादों से मुक्त हो संसार ।
ज्ञान परंपरा का विस्तार, दीर्घ प्रभाव का सतत् प्रसार ।
बृहतर चिंतन सह मूल्यों पर, आधारित युवा करें विचार ।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

2 × three =