लिफाफा गैंग से सावधान,अवैध संबंधों से बच के क्राइम की दो जरूरी खबरें, वीडियो के साथ

0
187

लिफाफा गैंग से सावधान 

आलोक वर्मा

दिल्ली की क्राइम की दो खबरें आपकी सजगता के लिए पूरा पढ़िए. वीडियो देखिए औऱ सजग रहिए 

 नई दिल्ली, इंडिया विस्तार। दिल्ली की लोधी कालोनी पुलिस ने लिफाफा गैंग का पर्दाफाश किया है। यह गैंग अनूठे तरीके से लोगों को लूटता था। गैंग के तीन सदस्य गिरफ्तार किए गए हैं। लिफाफा गैंग कार लेकर शिकार के लिए निकलता था और इनके निशाने पर राहगीर होते थे।

दक्षिणी दिल्ली पुलिस उपायुक्त अतुल कुमार ठाकुर के मुताबिक लिफाफा गैंग के बदमाशों की पहचान अश्वनी कुमार उर्फ अमित देवदत्त उर्फ सूरज और राकेश गोस्वामी के रूप में हुई है। दरअसल लूटपाट और झपटमारी की घटनाओं पर काबू के लिए एसीपी कुलबीर सिंह की देखरेख में लोधी कालोनी थानाध्यक्ष सुनील कुमार के नेतृत्व में एस आई आनंद कुमार, दिपेन्द्र, एएसआई सतपाल, कांस्टेबल विजय, मुकेश, अमित और सुनील की टीम बनाई गई थी। पुलिस टीम ने जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम के पास पिकेट के पास संदिग्ध हालत में एक कार रुकवाई, मगर कार से तीन लोग बाहर आकर फरार होने लगे। पुलिस ने उन्हें दबोच लिया। इसी बीच कार से निकले चौथे शख्स ने उन्हें बताया कि उसने कार में लिफ्ट ली थी और तीनो ने क्राइम ब्रांच का इअफसर बनकर उसके पैसे ले लिए। इस शिकायत पर पुलिस ने तीनो से पूछताछ की तो पता लगा कि वे लोग दक्षिणी दिल्ली के बस स्टैंड पर वाहन के इंतजार में खड़े लोगों को फांसकर कार में बिठा लेते हैं। इसके बाद  उसके सामने खुद को क्राइम ब्रांच का बताकर उन्हें धमकी देकर उनसे पैसे औऱ दूसरे कीमती सामान लिफाफे में रखवा लेते हैं इसके बाद कार में तकनीकी खराबी का बहाना कर लिफ्ट लिए शख्स को नीचे उतारकर फरार हो जाते हैं। देवदत्त खुद को फौजी बताता था जबकि अश्वनी उर्फ अमित कार के अंदर पहले से बैठे पैसेंजर का नाटक करता था। इन लोगो ने करीब तीस लोगों को अपना शिकार बनाया है।

 

अवैध संबंधो से सावधान

दिल्ली के किशनगढ़ में एक 32 साल की महिला तरन्नुम उर्फ हिना की हत्या इसलिए कर दी गई क्योंकि वह अवैध संबंध रखने वाले शख्स से शादी का जिद कर रही थी। पुलिस ने उसके प्रेमी औऱ उसके बचपन के तीन दोस्तों को गिरफ्तार किया है। दरअसल 9 फरवरी को सुबह तीन बजे पुलिस को सूचना मिली थी कि एक महिला की गला रेतकर हत्या कर दी गई है। महिला की पहचान तरन्नुम उर्फ हिना के रूप में हुई। वह अपने पति साकिब के साथ किशनगढ़ में रहती थी। मामले को सुलझाने के लिए एसीपी वीकेपीएस यादव की देखरेख में किशनगढ़ थानाध्यक्ष राजेश मौर्या के नेतृत्व में एसआई कुलदीप तालन, एम एल मीणा, कुलदीप सिंह, हेडकांस्टेबल विकास. मुकेश औऱ कांस्टेबल दिनेश की टीम बनाई गई। जांच में पुलिस ने हिना के साथ रहने वाले सुमित को हिरासत में लेकर पूछताछ की। कड़ी पूछताछ में सुमित ने बताया कि हिना उससे प्यार करने लगी थी और शादी के लिए जिद करती थी जबकि वह पहले से ही शादी शुदा थी। हिना से छुटकारा पाने के लिए सुमित ने अबने बचपन के तीन दोस्तों अरूण, अमित औऱ रवि के साथ मिलकर हिना को जान से मारने की योजना बनाई। दोस्तों को उसने कत्ल के बाद मिली रकम औऱ जेवरात देने का लालच औऱ एक लाख रुपये भी देने को कहा था। 8 फरवरी को उसने हिना को फोन कर उसके घर पहुंच गया और वहीं अपने साथियों को भी बुला लिया।  इसके बाद चारो ने मिलकर उसकी हत्या कर दी।

वीडियो देखें-

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

4 × 3 =