NEET सॉल्वर गैंग की कहानी, वाराणसी पुलिस कमिश्नर की जुबानी

0
10
सीपी ए सतीश गणेश

NEET सॉल्वर गैंग के खिलाफ वाराणसी पुलिस को बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। वाराणसी पुलिस ने आखिरकार NEET सॉल्वर गैंग के मोस्ट वांटेड पीके उर्फ नीलेश औऱ उसके एक साथी को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल कर ली। पीके पर एक लाख रु का  इनाम घोषित था। इसकी गिरफ्तारी के लिए वाराणसी पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश निजी रूप से निगरानी कर रहे थे। वीडियो में वाराणसी पुलिस कमिश्नर ए सतीश गणेश से पूरी कहानी जानिए।

नीलेश उर्फ पीके पुत्र कमलवंश नारायण सिंह निवासी टेलीफोन एक्सचेंज एक्सचेंज रोड पाटलिपुत्र पटना बिहार मूल रूप से ग्राम सिंदुआर, एकमा, सारण छपरा का निवासी है। इसके पिता उद्योग विभाग से के पद से 1990 में रिटायर हुए और पटना में बस गया।

नीलेश उर्फ पीके 

नीलेश उर्फ पी के ने करेस्पॉन्डएस कोर्स के जरिए स्नातक की परीक्षा को पटना विश्वविद्यालय से पास किया हैं किंतु आसपास व सभी जगह के लोगों को अपने आपको डॉक्टर बताता है घर से डॉक्टर के वेश में ही निकलता है जिससे कि लोग इन पर विश्वास कर सके कि यह पेसे से डॉक्टर है और लीग उस पर विश्वास कर सकें।

यह और इसका गैंग लगभग 5 से 6 सालों से NEET की परीक्षा में सॉल्वरों को बैठाकर परीक्षा दिला रहे हैं। NEET की परीक्षा के साथ-साथ उत्तर प्रदेश एवं बिहार राज्य के शिक्षक परीक्षा में व उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के साथ-साथ बिहार पुलिस व अन्य सेवाओं में यह अपने बहनोई रितेश उर्फ सोनू जोकि बिहार सचिवालय में कार्य करता है के साथ मिलकर इन सभी परीक्षाओं में पेपर आउट करा कर या साल्वर की व्यवस्था करा कर परीक्षा में पास कराते हैं नीट की परीक्षा में यह 30 से 49 से लाख रुपए प्रति अभ्यर्थी वसूलते हैं। इन्होंने इन्हीं पैसे से पटना में तीन मंजिला मकान व दानापुर में दो जगह 4 से 5 बिस्वा की जमीन को खरीद रखा है। इसके पास तीन गाड़ियां जिसमें एक फॉर्च्यूनर, हुंडई लिवो और एक वैगनआर है।

रितेश 
रितेश कुमार सिंह पुत्र स्व० कृत्यानन्द सिंह निवासी – देव नगर न्यू जगन पूरा’ पिपरा रोड पोल नम्बर 28 गवर्नमेंट स्कूल के पहले, जिला पटना बिहार, पटना सचिवालय में कला संस्कृति एवं युवा विभाग में उच्च वर्गीय लिपिक के पद पर वर्ष 2004 में नियुक्त हुआ। रितेश कुमार रिश्ते में नीलेश उर्फ पीके का बहनोई है। इसका विवाह नीलेश की बहन डॉक्टर प्रिया से वर्ष 2014 में हुआ। डॉक्टर प्रिया ने वर्ष 2019 में IGIGIMS पटना से 2019 में MBBS पूर्ण किया है और वर्तमान में नगरा ब्लॉक, सारन छपरा में पीएचसी में संविदा पर नियुक्त है वह भी इनके इस गैंग में सम्मिलित है।
 गिरफ्तारी का स्थान – रिंग रोड फ्लाईओवर के पास, रिंग रोड, थाना क्षेत्र सारनाथ
 पुलिस टीम
नि०अंजनी कुमार पाण्डेय प्रभारी सर्विलांस सेल
उ0नि0 अर्जुन सिंह (थानाध्यक्ष सारनाथ)
उ0नि0 सुरज तिवारी की (प्रभारी सराय मोहना थाना सारनाथ)
उ0नि0 राज कुमार पांडेय(क्राइम ब्रांच)
उ0नि0 ब्रिजेश मिश्रा (क्राइम ब्रांच)
हे0का0सुरेन्द्र कुमार मौर्य (क्राइम ब्रांच)
हे0का0 विवेकमणि त्रिपाठी (सर्विलांस सेल)
हे0का0 ज्ञानेंद्र कुमार (सर्विलांस सेल)
हे0का0 राम बाबू( क्राइम ब्रांच)
का0 सुमित सिंह (पुलिस लाइन)
का0 सन्तोष कुमार यादव (सर्विलांस
का0 अनुग्रह वर्मा (सर्विलांस सेल)
का0 प्रेम पंकज (सर्विलांस सेल)
का0 अश्वनी सिंह (सर्विलांस
का0 राम कैलाश ( थाना सारनाथ)
का0 अभय कुमार साह ( थाना सारनाथ)
का0 विनोद कुमार ( थाना सारनाथ)

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here