ओला स्कूटी घोटाले का पर्दाफाश, देश भर से बीस घोटालेबाज गिरफ्तार, ऐसे करते थे जालसाजी

ला स्कूटी के नाम पर चल रहे बड़े घोटाले का पर्दाफाश हुआ है। आउटर नॉर्थ दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने घोटाले के आरोप में देश भर से 20 लोगों को गिरफ्तार किया है। घोटालेबाजों ने अब तक करीब एक हजार लोगो को चुना लगाया है।

0
153
ओला स्कूटी स्कैम के आरोपी

ओला स्कूटी के नाम पर चल रहे बड़े घोटाले का पर्दाफाश हुआ है। आउटर नॉर्थ दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने घोटाले के आरोप में देश भर से 20 लोगों को गिरफ्तार किया है। घोटालेबाजों ने अब तक करीब एक हजार लोगो को चुना लगाया है। पुलिस ने इन लोगों को कर्नाटक, झारखंड, बिहार और आंध्र प्रदेश से गिरफ्तार किया है।
आउटर नॉर्थ डीसीपी देवेश कुमार महला के मुताबिक गिरफ्तार किए गए 20 लोगों में से 02 कर्नाटक से, 04 तेलंगाना से, 03 झारखंड से और 11 बिहार से हैं।
https://www.electricalscooty.com/contact.php घोटाले में इस्तेमाल की गई फर्जी वेबसाइट है, जो असली जैसी लगती है
आरोपी एक अच्छी तरह से प्रबंधित वेबसाइट का उपयोग कर रहे थे, और इस मोडस ऑपरेंडी द्वारा लोगों को ठगने के अपने रैकेट को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न तरीकों का इस्तेमाल कर रहे थे। इनके पास से 38 एंड्रॉइड/आईओएस मोबाइल फोन, 25 कुंजी पैड फोन, 07 लैपटॉप, 02 हार्ड डिस्क, 02 स्मार्ट वॉच और एक डोंगल, 114 सिम कार्ड जो अपराध में उपयोग किए गए थे बरामद हुये । 25 बैंक खातों और 04 वॉलेट का इस्तेमाल धोखाधड़ी के पैसे को निकालने में किया गया जिन्हे फ्रीज किया गया है।
डीसीपी देवेश महला के मुताबिक दिल्ली के कंझावला रोड निवासी गोपाल सिंह ने मोबाइल द्वारा ओला इलेक्ट्रिक की बुकिंग के नाम पर धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज की थी। उनके साथ 30998/- रुपये की धोखाधडी की गई थी। यह एक नए प्रकार की धोखाधड़ी है, आजकल लोग इलेक्ट्रिक वाहनों की ओर रुख कर रहे हैं। ओला इलेक्ट्रिक स्कूटी बुक करने का एकमात्र तरीका ऑनलाइन (ओला एप्लीकेशन) है।अपराध की गंभीरता को भांपते हुए एसीपी/ऑपरेशन यश पाल सिंह के समग्र पर्यवेक्षण एसएचओ/पीएस साइबर क्राइम/आउटर नॉर्थ डिस्ट्रिक्ट, इंस्पेक्टर रमण कुमार सिंह की एक टीम इंस्पेक्टर देवेंद्र, एसआई जगदीप नारा, एसआई सोमवीर सिंह, एसआई सत्येंद्र, एसआई आशा दलाल, एसआई विशाल चौधरी, एएसआई सीमा, एएसआई अनिल, एचसी संदीप, एचसी विनोद कुमार, एचसी मनोज, एचसी राहुल, एचसी हेमंत, एचसी दिलीप , एचसी मनोज कुमार, एचसी प्रोमिला, एचसी अनुप्रिया, एचसी सौभाग्यवती, एचसी मंदीप, कांस्टेबल विकास, विजय, रिंको, अवधेश और संजय की टीम गठित की गयी ।

तकनीकी निगरानी के अनुसार जांच के दौरान आरोपी/संदिग्ध को बैंगलोर में ट्रेस किया गया। मामले की जांच के दौरान सीडीआर, बैंक खाता विवरण और केवाईसी प्राप्त हुए। Google, GODADDY, BigRock और तकनीकी निगरानी के रिकॉर्ड के अनुसार, वेब डेवलपर/डिज़ाइनर बेंगलुरु निवासी टी वी वेकातखाला जो बी.ई. JSS विश्वविद्यालय मैसूर और PHP में विशेषज्ञ यानी वेबसाइट बैक एंड लैंग्वेज) को गिरफ्तार किया गया। वेंकटचला की निशानदेही पर सह-आरोपी नागेश निवासी को भी वेबसाइटों के संचालक के रूप में गिरफ्तार किया गया जो सोशल मीडिया (फेसबुक) इंस्टाग्राम, व्हाट्सएप संदेश, ऐप विज्ञापन, कॉल विज्ञापन और लीड जनरेशन से इसे बढ़ावा दे रहा था । इन्होंने समय-समय पर वेबसाइट को संशोधित भी किया था। नागेश ने एरिना इंस्टीट्यूट बैंगलोर से फाइन आर्ट में मास्टर्स और वन ईयर ग्राफिक्स और वेब डिजाइनिंग का डिप्लोमा किया है और ओला स्कूटी वेबसाइट की तरह दिखने वाली वेबसाइट को डिजाइन किया है।
जिन लोगो ने ओला वेबसाइट विकसित करने/बनाने के लिए उनसे संपर्क किया था वे  दोनों आरोपी के निकट संपर्क में थे ।  इसके अलावा उन्हें सोशल मीडिया पर (कॉल करने वालों और खाताधारकों) से प्रोमोशन  के लिए लगभग ₹1,20000/- लिए थे । इस संबंध में बिहार से संचालित मुख्य आरोपी व उसके साथियों को पकड़ने के लिए जाल बिछाया गया।
आरोपी नागेश ने जालसाजों को बताया कि वह किसी आधिकारिक काम के लिए दिल्ली में है और उन्हें अपने लैपटॉप और मोबाइल फोन के साथ आने के लिए कहा ताकि अधिक से अधिक पहुंच के लिए अपने उपकरणों में की इन्स्टाल करवाए और अधिक लोगों को भुगतान करने के लिए पहुँच बनाये । इन्होंने नेहरू प्लेस कंप्यूटर बाजार से एक लैपटॉप और मोबाइल फोन खरीदा। इसके बाद उन्होंने नागेश को मेदांता अस्पताल, सेक्टर 38, गुरुग्राम हरियाणा के पास मिलने के लिए बुलाया। उनके ठिकानों का पता लगाकर टीम सेक्टर 38, गुरुग्राम पहुंची और जाल बिछाया गया। वे जाल में फंस  गए और दोनों को गुरुग्राम से पकड़ा गया। 
आरोपी राकेश कुमार और सुशांत कुमार इस मामले में गिरफ्तार किए गए थे। 

आरोपी सुशांत खुद को कुलदीप सिंह बताकर अपने अकाउंट का इस्तेमाल करता था। उसने आरोपी टी वी वेंकटचला को वेबसाइट विकसित करने और सह-अभियुक्त नागेश के माध्यम से सोशल मीडिया विज्ञापनों को बढ़ावा देने के लिए भुगतान किया था और कुलदीप के नाम पर पंजीकृत खाते के माध्यम से भुगतान किया था। उसने बरामद मोबाइल फोन का इस्तेमाल फर्जी तरीके से प्राप्त विभिन्न सिम कार्डों के साथ किया है। चूंकि यह घोटाला सुनियोजित तरीके से चलाया जा रहा था इसलिए पूरे सिंडिकेट का पता लगाना जरूरी समझा गया।

मामले की आगे की जांच के दौरान धोखाधड़ी की राशि का पता लगाने और लोगों को ठगने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले सिम के स्रोत जानने की आवश्यकता थी। इसलिए आरोपी सुशांत कुमार और राजेश कुमार की 07 दिन की पुलिस रिमांड मांगी गई । जांच के दौरान आरोपी ने स्वीकार किया कि अमन उर्फ ​​रॉकी और अनेश उर्फ ​​गोलू दोनों सगे भाई हैं जो  ओला इलेक्ट्रिक बुकिंग और अन्य साइटों का रैकेट चला रहा है।  जांच के बाद आरोपी अमन @ रॉकी और अनीश @ गोलू दोनों पटना में अपने अन्य 14 साथियों के साथ मिला जो अलग-अलग मॉड्यूल पर ऑनलाइन ठगी का काम करते हैं ।  टीम ने परिसर की तलाशी ली और 63 मोबाइल फोन और 114 सिम अलग से घोटाले को चलाने के लिए मिले। 

इस तरह करते थे जालसाजी
ये साइबर अपराधी झारखंड, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश और बिहार के साइबर बदमाशों के साथ मिलकर रैकेट चला रहे थे। जैसे-जैसे अधिक से अधिक लोग ओला इलेक्ट्रिक स्कूटी लेना चाहते हैं, जालसाज नकली वेबसाइट बनाकर और बुकिंग राशि प्राप्त करके लोगों से उनकी गाढ़ी कमाई को लूट रहे हैं। शुरुआत में पीड़ितों को पंजीकरण के लिए ऑनलाइन मोड से ₹499 का भुगतान करने के लिए कहा जाता था और उसके बाद उन्हें ट्रांसपोर्टेशन शुल्क और बीमा आदि के नाम पर कॉल और टेक्स्ट संदेश द्वारा पैसे जमा करने के लिए कहा गया था। पैसे प्राप्त करने के बाद वे डिलीवरी का समय बढ़ाते थे और बेवकूफ बनाते थे। ।

आरोपी व्यक्तियों का प्रोफाइल :

  1. टीवी वेंकटचला, उम्र- 35 साल, जननी बंदेमट लेआउट, केंगेरी सैटेलाइट टाउन, बैंगलोर। वह JSS यूनिवर्सिटी मैसूर से B.E हैं और PHP यानी वेबसाइट बैक एंड लैंग्वेज में विशेषज्ञ हैं ।
  2. नागेश एसपी आयु- 31 वर्ष, तिरुमाला बेकरी सेकेंड क्रॉस के पीछे, चानचंद्र, बैंगलोर आर/ओ एरिना इंस्टीट्यूट बैंगलोर से ललित कला और ग्राफिक्स और वेब डिजाइनिंग में डिप्लोमा है।
  3. सुशांत कुमार उम्र- 22 साल, गांव गांव। पंछी, शेखपुरा, बिहार बीकॉम में पढ़ रहा है, वेंकटचला और नागेश को घोटाले में लाने का मास्टरमाइंड है ।
  4. राजेश कुमार उम्र- 29 साल, गांव गांव। पांची, शेखपुरा, बिहार ग्रेजुएट है, वह बार-बार नाम बदलकर लोगों को ओला स्कूटी बुक करने के लिए कॉल करता था।
  5. अमन कुमार @ रॉकी उम्र- 25 निवासी गांव। महानंदपुर, पन्हेसा, शेखपुरा, बिहार एक पब्लिक स्कूल से 12 वीं पास है, और घोटाले में इस्तेमाल कॉल सेंटर चलाने के पीछे मुख्य व्यक्ति है।
  6. अनीश @ गोलू उम्र -26 निवासी गांव। महानंदपुर, पन्हेसा, शेखपुरा, बिहार ग्रेजुएट हैं और कॉल सेंटर में भागीदार था ।
  7. बिट्टू उम्र 27 साल निवासी गांव। बाजीगंज, गया बिहार 10 वीं पास है और कॉल करने के उद्देश्य से एक व्यक्ति से डेटा एकत्र करता था।
  8. सन्नी उम्र – 22 साल, गांव गांव। कॉल करने के लिए अहियाचक, कतरीसराय, नालंदा बिहार ग्रेजुएट ट्रेनर और टीम लीडर। यह स्क्रिप्ट लिखता थे।
  9. नवलेश कुमार उम्र- 22 साल गांव- मांझवे, नवादा बिहार का रहने वाला, 10वीं पास पीड़ितों को फोन करता था ।
  10. आदित्य उम्र- 22 साल गांव-शिव शक्ति कॉलोनी, शिव मंदिर के पास, चास, बोकारो, झारखंड 5वीं पास है पीड़ितों को कॉल करता था।
  11. विवेक कुमार आयु- 25 वर्ष निवासी पुराना श्याम बाजार, पोस्ट- सिजुआ, मोदिडीह उर्फ ​​कोराडीह, धनबाद झारखंड, 12वीं पीड़ितों को कॉल करता था ।
  12. मुरारी कुमार उम्र- 38, निवासी गांव पलोनी, पीएस मानपुर नालंदा बिहार 6वीं पास है और पीड़ितों को कॉल करता था ।
  13. अजय कुमार आयु- 19 वर्ष निवासी शांति नगर चास झूठाधी मोर धनबाद रोड वीणा रीजेंसी के पास धनबाद झारखंड 12वीं पास है पीड़ितों को कॉल करता था ।
  14. अविनाश कुमार उम्र- 22 वर्ष निवासी गांव अहिल्याचक कटरीसराय नालंदा बिहार स्नातक, पहले वह दिल्ली में था और द्वारका मोड़ में मोबाइल की दुकान चलाता था पीड़ितों को फोन करता था ।
  15. प्रिंस कुमार गुप्ता आयु- 37 वर्ष वीपीओ कतरी सराय जिला नालंदा बिहार, स्नातक और पश्चिम बंगाल से खातों की व्यवस्था करता था ।
  16. वदिथ्या चिन्ना उम्र- 22 साल निवासी एच. नं. 2-39, कोटा गट्टू थांडा, शेख पल्ली हनवाड़ा मंडल, शैकपल्ले, गुंडियाल, महबूब नगर, तेलंगाना 12वीं पास है, पीड़ितों को कॉल करता था ।
  17. आनंद कुमार आयु- 21 वर्ष गांव कतरी सराय जिला नालंदा बिहार स्नातक है और उसने बुनियादी ढांचा उपलब्ध कराया है, घोटाले को चलाने के लिए आवास किराए पर लिया था।
  18. कतरावथ शिव कुमार आयु- 22 वर्ष निवासी 2-46, दोनबंदा थांडा, शैकपल्ली, हमवाड़ा, मंडल, महबूब नगर, तेलंगाना बी.कॉम है पीड़ितों को कॉल करता था । 19. कतरावथ रमेश उम्र 19 वर्ष निवासी एच. नं. दोनाबंदा, थांडा, हनवाड़ा मंडल, शैदाले, महबूब नगर, तेलंगाना 12वीं पास है, पीड़ितों को कॉल करता था । 20. जी श्रीनु आयु- 21 वर्ष निवासी एच. नं. 2-128, मुकर्लाबाद, के.वी. रंगारेड्डी, तेलंगाना 12वीं पास है पीड़ितों को कॉल करता था ।

बरामदगी:
07 लैपटॉप,
38 स्मार्ट फोन,
25 कीपैड फोन (बेसिक फोन)।
02 हार्ड डिस्क,
02 स्मार्ट वॉच,
114 सिम कार्ड,
एयरटेल का एक डोंगल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twelve + 4 =