एक चीनी नागरिक ढेर सारे गढ़बड़झाले, इनकमटैक्स, ईडी की कार्रवाई में हो रहे हैं खुलासे

0
51

नई दिल्ली, इंडिया विस्तार। हिरासत में लिए गए हवाला कारोबार से जुड़े चीन मूल के रहने चार्ली पेंग की 5 फर्जी कंपनियों का पता चला है। इनकम टैक्स की टीम बुधवार को भी गुड़गांव स्थित सुशांत लोक स्थित अपार्टमेंट में सर्च ऑपरेशन कर रही थी। कल देर रात तक इनकम टैक्स की टीम तफ्तीश कर रही थी उसके बाद आज सुबह 9 बजे से फिर इस मामले की तफ्तीश में जुट गई है । इनकम टैक्स के सूत्रों की अगर मानें तो गृहमंत्रालय द्वारा मिले इनपुट्स के बाद इस सर्च ऑपरेशन को अंजाम दिया गया है ।  गुड़गांव स्थित सुशांत लोक इलाके में करीब चार पांच आरोपियों ने मिलकर यहां एक कॉरपोरेट ऑफिस बनाया था वहीं से इस हवाला कारोबार और फर्जीवाड़े को अंजाम दिया जा रहा था।

गौरतलब है कि  देश में चीनी कंपनियों और उसके हवाला कनेक्शन को लेकर इनकम टैक्स विभाग (Income Tax Department) और ईडी (ED) की टीम ने बड़ी कार्रवाई की है। इस ऑपरेशन के तहत चीनी कंपनियों की मदद करने वाले कई सरकारी अधिकारियों, बैंक के अधिकारियों सहित कई अन्य आरोपियों के खिलाफ दिल्ली, हरियाणा, उत्तर प्रदेश के 20 शहरों में इनकम टैक्स की टीम छापेमारी कर रही है। इस सर्च ऑपरेशन में केन्द्रीय जांच एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी (Enforcement Directorate) की टीम भी कार्रवाई कर रही है। इसी मामले में फर्जी पासपोर्ट के सहारे नाम बदलकर रहने वाले एक चीनी नागरिक को पकड़ा गया है।

देश में पहली बार ऐसी कार्रवाई को अंजाम दिया जा रहा है, जिसमें भारत के कई राज्यों में चीन की कंपनियों का हवाला कनेक्शन का मामला सामने आया है। इसी वजह से दिल्ली, गुरुग्राम, गाजियाबाद सहित करीब 20 लोकेशन पर सर्च ऑपरेशन चलाया गया है। यह सर्च ऑपरेशन मंगलवार 11 अगस्त की देर रात तक चलता रहा। इसी दौरान आरोपी को हिरासत में लिया गया, जिसका नाम लुओ सैंग है, लेकिन वो चार्ली पेंग के नाम से भारत में पिछले काफी समय से रह रहा था। 11 अगस्त की देर रात तक इनकम टैक्स की टीम पूछताछ कर रही थी। पूछताछ के दौरान कई महत्वपूर्ण जानकारियां सामने आई हैं।

कौन है लुओ सैंग और क्या है उसका हवाला कनेक्शन?
इनकम टैक्स विभाग और केन्द्रीय जांच एजेंसी ईडी (ED) की टीम को पिछले कुछ दिनों पहले इस मामले की जानकारी मिली थी की हवाला कारोबार के मार्फत चीन के कुछ नागरिक देश में कई बड़े कारोबार में निवेश कर रहे हैं। यह भी जानकारी मिली थी की उसमें से एक शख्स का नाम लुओ सैंग है, लेकिन पिछले काफी समय से भारत में अपने आप को वो मणीपुर का निवासी बताता था। इसके साथ ही वो अपना नाम चार्ली पेंग बताता था। इसके बारे में यह भी जानकारी मिली है की वो फर्जी पासपोर्ट धारक भी है। लिहाजा इस मामले में दिल्ली पुलिस भी आने वाले वक्त में मामला दर्ज कर सकती है।
शेल कंपनियों का संचालन

इनकम टैक्स के सूत्रों के मुताबिक इस आरोपी ने कई शेल कंपनियों का जाल फैला रखा था. लुओ सैंग पैसे के दम पर कई बैंककर्मियों को भी घूस देकर अपना काम निकालता था। इनकम टैक्स के सूत्रों ने इस मामले में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया की छापेमारी के दौरान इस आरोपी के करीब 40 से अधिक बैंक खातों के बारे में जानकारी मिली है। जिसमें एक समय के अंतराल में ही करीब एक हजार करोड़ रुपये से अधिक क्रेडिट एंट्री किए जाने से संबंधित महत्वपूर्ण दस्तावेज भी बरामद हुए हैं। इसके लिए जो प्लान बनाया गया कि चीनी कंपनियों के सब्सिडियरी और उससे जुड़े लोगों ने फर्जी कंपनियों से भारत में रिटेल शोरूम व्यवसाय करने के लिए करीब 100 करोड़ रुपये से अधिक बोगस एडवांस लिए गए। हवाला कनेक्शन में अमेरिकी डॉलर और हांगकांग की करेंसी का भी प्रयोग किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

six − one =