कपिल सांगवान उर्फ नंदू गैंग का शार्प शूटर चढ़ा दिल्ली पुलिस के हत्थे

0
50
कपिल सांगवान उर्फ नंदू गैंग का शार्प शूटर गिरफ्त में

कुख्यात गैंगस्टर कपिल सांगवान उर्फ नंदू गैंग के शार्प शूटर दीपक धनकड़ को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने धर दबोचा है। कपिल सांगवान उर्फ नंदू गैंग के शार्प शूटर दीपक को ककरोला रोड से गिरफ्तार किया गया। उसके कब्जे से एक पिस्टल औऱ पांच जिंदा कारतूस भी बरामद हुए हैं। कपिल सांगवान का यह शार्पशूटर अदालत में पेशी के दौरान विरोधी गैंग सरगना की हत्या करने की फिराक में था।

कपिला सांगवान उर्फ नंदू गैंग का शार्पशूटर दीपक

स्पेशल सेल के डीसीपी जसमीत सिंह के मुताबिक कपिल सांगवान उर्फ नंदू गैंग के शार्पकपिल शूटर दीपक धनकड को एसीपी अत्तर सिंह की देखरेख में इंस्पेक्टर करमवीर सिंह औऱ शिवकुमार की टीम ने गिरफ्तार किया। दिल्ली के नजफगढ़ के गांव मित्राउं में मनजीत महल के पिता श्रीकिशन की हत्या के सनसनीखेज हत्याकांड में आरोपी दीपक अंतरिम जमानत काटकर दीपक धनखड़ 6 माह से फरार चल रहा था।

वीडियो देखें

डीसीपी जसमीत सिंह के मुताबिक इंस्पेक्टर शिवकुमार को जानकारी मिली थी कि 3 दिसंबर को दोपहर में दिल्ली के काकरोला गांव के पास सेलेरियो कार में दीपक धनखड़ किसी से मिलने आने वाला है। पुलिस टीम ने उक्त क्षेत्र में जाल बिछाया। दोपहर करीब 2 बजे ऊपर सेलेरियो कार में बैठे दीपक धनखड़ को नजफगढ़ की तरफ से आते देखा गया। उसे कार रोकने का इशारा किया गया, लेकिन जब उसे पुलिस की मौजूदगी का आभास हुआ, तो उसने अपनी पिस्तौल निकाल ली और पुलिस टीम की ओर निशाना साधा। पुलिस टीम के सदस्य सेलेरियो कार की ओर दौड़े, दीपक पर काबू पा लिया गया। दीपक धनखड़ के कब्जे से .32 की एक सेमी-ऑटोमैटिक पिस्टल और 5 जिंदा कारतूस बरामद किए गए।

कपिल सांगवान उर्फ नंदू गैंग औऱ दीपक धनखड़
गिरफ्तार दीपक धनखड़ कुख्यात कपिल सांगवान गैंग का बेहद खूंखार सदस्य है। गौरतलब है कि कपिल सांगवान उर्फ नंदू गैंग और मंजीत महल गैंग के बीच रंजिश चल रही है। इस रंजिश में पिछले 6 सालों नें कम से कम 6 लोगों की हत्या हो चुकी है।  मंजीत महल, नफे उर्फ ​​मंत्री, धर्मेंद्र व उनके अन्य साथियों द्वारा दिसंबर 2015 में कपिल सांगवान के  जीजा सुनील @ डॉक्टर की हत्या की गई थी। इसके बाद से ही रंजिश चल रही है। इस हत्याकांड के बदले में कपिल सांगवान उर्फ नंदू ने दीपक धनखड़ और अन्य साथियों के साथ मिलकर मंजीत के पिता की हत्या कर दी साथ ही उसकी मां औऱ पत्नी भी घायल हो गई थी।

इसके बाद कपिल सांगवान उर्फ ​​नंदू ने अपने साथियों के साथ मंजीत महल के सहयोगी धर्मेंद्र के पिता और भाई की गोली मारकर हत्या कर दी थी, जो पहले सुनील @ डॉक्टर की हत्या के मामले में गिरफ्तार किया गया था।
कपिल सांगवान की गिरफ्तारी के बाद कृष्ण उर्फ ​​अंकुश उर्फ ​​भालू और दीपक धनखड़ ने गिरोह की कमान संभाली थी।  दीपक धनखड़ अंतरिम जमानत पर था, लेकिन उसने 13 मई को जमानत की अवधि समाप्त होने के बाद भी आत्मसमर्पण नहीं किया और तभी से फरार था।  निचली अदालत ने उक्त मामले में 9 नवंबर को दीपक धनखड़ के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया था।
दीपक धनखड़ पहले हत्या सहित 6 सनसनीखेज आपराधिक मामलों में शामिल है। दिल्ली और हरियाणा में हत्या का प्रयास, डकैती / डकैती, कार-जैकिंग, अतिचार, आपराधिक धमकी, पुलिस पर हमला, साजिश, जबरन वसूली और हथियार अधिनियम। उपरोक्त हत्याकांड के अलावा दीपक अन्य मामलों में भी अदालत में उपस्थित नहीं हो रहा था।
दीपक धनखड़ ने यह भी खुलासा किया है कि वह अपने गिरोह के सदस्यों की मदद से अदालतों में पेश होने के दौरान मनजीत महल को न्यायिक हिरासत में खत्म करने की योजना बना रहा था। उसने बताया है कि उसने मंजीत महल और उसके भाई संजय महल की हत्या के मकसद से हथियार और गोला-बारूद हासिल किया था।
गिरफ्तार आरोपी दीपक धनखड़ से आगे की पूछताछ जारी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here