खलिस्तान समर्थक आंदोलन को हथियार दे रहे हैं अवैध हथियारों के लोकल तस्कर, देखें वीडियो

0
18

नई दिल्ली, इंडिया विस्तार। खलिस्तान समर्थक उन अवैध हथियार तस्करों से हथियार खरीद रहे हैं जो मध्य प्रदेश आदि के इलाको में लोकल हथियारों का निर्माण करते हैं। खलिस्तान समर्थक तक हथियार पहुंचाने के लिए फेसबुक ग्रुप आदि का सहारा लिया जा रहा है। खलिस्तान समर्थक आंदोलन को अवैध हथियार सप्लाइ करने का यह तरीका पहली बार सामने आया है। यह चौंकाने वाला खुलासा खलिस्तान समर्थक को हथियार देने के एक बड़े रैकेट से हुआ है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 18 पिस्टल औऱ 60 कारतूस बरामद किए हैं। इस सिलसिले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल के डीसीपी संजीव यादव के मुताबिक एसीपी जसबीर सिंह की देखरेख में इंस्पेक्टर कुलदीप सिंह औऱ विवेकानंद पाठक की टीम ने राजेन्द्र सिंह बरनाला और बबलू सिंह को गिरफ्तार किया है। यह हथियारों की खेप बैग में विशेष तरह से डिजाइन किए गए जगह में छिपाकर ले जा रहे थे। इनके पास से अवैध गोला-बारूद आपूर्ति गतिविधियों में इस्तेमाल किए गए मोबाइल हैंडसेट और सिम कार्ड भी बरामद किए गए हैं।
विभिन्न मामलों की जांच से पता चला कि खालिस्तानी कार्यकर्ता मध्य प्रदेश के अवैध आग्नेयास्त्र आपूर्तिकर्ताओं के संपर्क में हैं और अपने  मंसूबों को अंजाम देने के लिए उनसे आग्नेयास्त्र खरीद रहे हैं। पता चला कि हथियार आपूर्तिकर्ता सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर काम कर रहे हैं और खालिस्तान के कट्टरपंथी समूह और गैंगस्टर भी इन हथियारों के आपूर्तिकर्ताओं से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से हथियार खरीद रहे हैं। इन सूचनाओं के कारण विशेष प्रकोष्ठ को ऐसी राष्ट्रविरोधी गतिविधियों पर विशेष नजर रखने के लिए प्रेरित किया गया।
सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर तीन महीने से अधिक की लंबी निगरानी टीम को खालिस्तान समर्थक आंदोलन को समर्पित एक निजी फेसबुक पेज पर ले गई। इस पृष्ठ तक पहुंच को अस्वीकार कर दिया गया था क्योंकि यह समूह निजी था। सोशल इंजीनियरिंग और तकनीकी एल्गोरिथम का उपयोग करके इस पृष्ठ पर पहुंच प्राप्त की गई और इस पृष्ठ पर गतिविधियों पर सावधानीपूर्वक निगरानी रखी गई। देखने के दौरान यह देखा गया कि एक व्यक्ति नकली आईडी का उपयोग करके आग्नेयास्त्रों की तस्वीरें और वीडियो बिक्री के लिए पोस्ट कर रहा है। उन पोस्ट के स्नैपशॉट लिए गए और फर्जी आईडी को समझने के लिए आगे का तकनीकी विश्लेषण शुरू किया गया। संचार के लिए फर्जी आईडी द्वारा एक वर्चुअल नंबर भी पोस्ट किया गया था।
तकनीकी इनपुट का उपयोग करके एक नया मोबाइल नंबर निकाला गया। उक्त मोबाइल नंबर का विश्लेषण और मैनुअल सर्विलांस से उक्त नंबर के उपयोगकर्ताओं की पहचान की गई। तकनीकी और मैनुअल निगरानी से, यह पता चला  कि उक्त व्यक्ति पंजाब, हरियाणा, यूपी और दिल्ली और एनसीआर में विभिन्न व्यक्तियों को अवैध गतिविधियों और अवैध आग्नेयास्त्रों की आपूर्ति में लिप्त हैं।
राजेंद्र सिंह बरनाला और बबलू सिंह दोनों को कराला-बरवाला रोड, रोहिणी, दिल्ली से पकड़ लिया गया। उनकी तलाशी के दौरान अवैध आग्नेयास्त्रों को ले जाने के लिए उनके बैग में बनी गुप्त गुहा से 18 सेमी-ऑटोमैटिक पिस्तौल और 60 जिंदा कारतूस बरामद किए गए। आरोपी राजेंद्र सिंह के बैग से 12 सेमी-ऑटोमैटिक पिस्टल और आरोपी बबलू सिंह के बैग से 6 पिस्टल व 60 जिंदा कारतूस बरामद किए गए। इनके पास से अवैध हथियार आपूर्ति गतिविधियों में इस्तेमाल कई मोबाइल हैंडसेट और कई सिम कार्ड भी बरामद किए गए।
राजेन्द्र सिंह ने खुलासा किया कि म.प्र. के बड़वानी, बुरहानपुर, धार और खरगोन जिलों में आग्नेयास्त्रों का निर्माण पुश्तैनी पेशा है। उनके गांव के कई लोग पीतल को भट्टियों में पिघलाकर और आकार देने के लिए सांचों का उपयोग करके अवैध हथियारों के निर्माण में लगे हुए हैं। राजेंद्र सिंह ने आगे खुलासा किया कि वह अपने भाई नरेंद्र सिंह के साथ पिछले कई वर्षों से पंजाब, हरियाणा, यूपी और दिल्ली सहित देश के विभिन्न हिस्सों में अवैध हथियारों की आपूर्ति में लिप्त है। वह अपने मालवाहकों के जरिए दिल्ली, यूपी, पंजाब, हरियाणा, एमपी आदि में अवैध हथियारों की खेप भेजता था।
यह भी पता चला है कि वह और उसका भाई खालिस्तान आंदोलनों और देश भर के विभिन्न गैंगस्टरों के सोशल मीडिया पेजों में शामिल हो गए हैं। उन पृष्ठों में महत्वपूर्ण है लॉरेंस बिश्नोई समूह का ‘SOPU’ और झारखंड के अमन साहू और सुखा। कुछ अन्य खालिस्तान आतंकवादी और गैंगस्टर जो इस सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का हिस्सा हैं, उन्होंने उनसे हथियार खरीदे हैं। वे अपने रिसीवर के संपर्क में रहने के लिए वर्चुअल नंबर और विभिन्न ऐप का उपयोग कर रहे थे। राजस्थान के रहने वाले राजू और जीतू दोनों लॉरेंस बिश्नोई समूह के सदस्य हैं, जिन्होंने राजेंद्र और उनके भाई नरेंद्र को वेबपेज बनाना और सोशल मीडिया का उपयोग करना सिखाया। उन्होंने राजेंद्र और नरेंद्र के लिए एक वर्चुअल नंबर भी बनाया ताकि वे पुलिस द्वारा देखे या बाधित किए बिना उनके संपर्क में रह सकें। अमन साहू झारखंड का एक बड़ा गैंगस्टर है।

वह झारखंड के लातेहार के कोयला क्षेत्र में रंगदारी के विभिन्न मामलों में शामिल है। वह झारखंड में विभिन्न कोयला कंपनियों और परिवहन कंपनियों पर गोलीबारी की घटनाओं को अंजाम देने के लिए नवोदित अपराधियों का इस्तेमाल करता है। इसके लिए गिरोह मप्र में राजेंद्र और नरेंद्र सहित विभिन्न निर्माताओं से आग्नेयास्त्रों की खरीद कर रहा है।
राजेंद्र सिंह से पूछताछ में यह भी पता चला है कि वह पंजाब में खालिस्तान कार्यकर्ता को अवैध हथियारों की आपूर्ति करता था। उन्होंने आगे खुलासा किया कि कानून प्रवर्तन एजेंसियों को चकमा देने के लिए उन्होंने फेसबुक, व्हाट्सएप आदि जैसे सोशल मीडिया ऐप का इस्तेमाल किया। उन्होंने ऐप आधारित नंबरों का भी इस्तेमाल किया ताकि पुलिस द्वारा उनके स्थान का पता नहीं लगाया जा सके। उन्होंने विभिन्न सोशल मीडिया ऐप पर अवैध आग्नेयास्त्रों की तस्वीरें और दरें पोस्ट कीं और उनके नंबर भी पोस्ट किए ताकि खरीदार उनसे संपर्क कर सकें।
राजेंद्र सिंह और उनके भाई द्वारा निर्मित पिस्तौल सटीक और उत्तम नकल और क्लासिक शिल्प कौशल का अच्छा उदाहरण हैं। उनके द्वारा आपूर्ति की गई पिस्तौल गुणवत्ता में इतनी अच्छी हैं कि इन पिस्तौलों के बीच सरकारी आयुध डिपो के कारखाने में निर्मित पिस्तौल के बीच अंतर करना मुश्किल है। राजेंद्र सिंह ने खुलासा किया कि इसकी कीमत मुश्किल से रु। 7,000/- एक पिस्तौल के निर्माण में और वह इन पिस्तौलों को रु. 25,000/- से 50,000/- प्रति पिस्टल।

बैग में इस तरह छिपाया गया था पिस्टल देखें वीडियो

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

two × one =