फर्जी कॉल सेंटर का खुलासा, “X-lite/ Eye Beam” सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर रहे थे, वीडियो देखें

0
166

नई दिल्ली, इंडिया विस्तार। दक्षिणी दिल्ली की मालवीय नगर पुलिस ने फर्जी कॉल सेंटर (Call centre) का खुलासा किया है। इस सिलसिले में एक महिला सहित पांच लोग गिरफ्तार किए गए हैं। पुलिस ने कॉल सेंटर से 13 कंप्यूटर औऱ कई अन्य सामान बरामद किए हैं। कॉल सेंटर से पश्चिमी देशो खासकर अमरीकी (USA) लोगों के साथ जालसाजी की जा रही थी।

दक्षिणी दिल्ली के डीसीपी अतुल ठाकुर के मुताबिक हेडकांस्टेबल अमित कुमार, कांस्टेबल हरकेश और राजेश खिड़की एक्सटेंसन में पेट्रोलिंग कर रहे थे। 28-29 की रात मुखिबर से सूचना मिली कि पंचशील विहार में बड़े स्तर पर साइबर चीटिंग का केंद्र है। यहां कॉल सेंटर के जरिए लोगों को चूना लगाया जा रहा है। इस सूचना के आधार पर थानाध्यक्ष सतीश राणा के निर्देश पर हेडकांस्टेबल अमित, कांस्टेबल हरकेश औऱ राजेश ने पंचशील विहार में बताए गए घर पर छापा मारा छापे के दौरान सूचना सही पाने पर आला अधिकारियों के निर्देश के मुताबिक एसआई कृष्ण कुमार एएसआई ताहिर हुसैन, कांस्टेबल दिनेश और महिला सिपाही रेखा के साथ मौके पर पहुंचे। जांच में पता लगा कि कॉल सेंटर बहुत गुप्त तरीके से संचालित हो रहा था।

मौके पर तीन लोग कंप्यूटर के सामने बैठकर काम कर रहे थे। पास ही बने दो केबिन में महिला औऱ पुरूष भी थे। पुलिस ने मौके से मयंक, शुभम और चंदन गुप्ता को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में पता लगा कि “X-lite/ Eye Beam” साफ्टवेयर के जरिए कॉल सेंटर संचालित हो रहा था। इनके अलावा केबिन में मौजूद प्रितपाल सिंह औऱ महिला किनकिनी दास को गिरफ्तार कर लिया गया। किनकिनी एचआर हेड के रूप में काम कर रही थी। पुलिस ने वहां से 12 कंप्यूटर भी जब्त किए।

“X-lite/ Eye Beam” क्या है

“X-lite/ Eye Beam” सॉफ्टवेर उच्च तकनीक वाला सॉफ्टवेयर है। इसी के जरिए कॉलर खुद को तकनिकी मदद के लिए प्रस्तुत करते थे। शिकार का डाटा लेने के बाज उनके कंप्यूटर पर संदेश भेजा जाता था कि उनके सिस्टम पर साइबर अटैक हुआ है। फिर तकनीकी मदद की आड़ में शिकार से पैसा ऐंठा जाता था।  कुल 13 कंप्यूटर बरामद किए गए हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here