किराए के फ्लैट से इस तरह चल रहा था ड्रग तस्करी का अंतर्राष्ट्रीय रैकेट

0
0

किराए के फ्लैट से ड्रग का अंतर्राष्ट्रीय रैकेट संचालित हो रहा था। किराए का यह फ्लैट दिल्ली के उत्तम नगर में स्थित था। किराए के इस फ्लैट से ड्रग तस्करी के संचालित हो रहे अंतर्राष्ट्रीय रैकेट का मास्टरमाइंट एक नाईजीरियन नागरिक था। किराए के फ्लैट से ड्रग तस्करी का रैकेट चलाने वाला यह नाईजीरियन साल 2019 में छह माह के बिजनेस वीजा पर भारत आया था औऱ उसके बाद वापस ना जाकर ड्रग की तस्करी करने लगा। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने इस नाइजीरियन नागरिक के साथ साथ उसके भारतीय सहयोगी को गिरफ्तार किया है। किराए के फ्लैट से हेरोइन बनाने के सामान बरामद किए गए हैं।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद कुशवाह के मुताबिक पकड़े गए ड्रग तस्करों की पहचान बाबू लाल उर्फ बबलू और चिगोजी फॉस्टर उर्फ डेविड के रूप में हुई है। डेविड नाईजीरिया का रहने वाला है। इनसे कुल 16.650 ग्राम ड्रग बरामद हुआ है।जिसमें 5.650 ग्राम हेरोइन, एक किलो Phenobarbital और 10 किलो केमिकल है। यह सामान हेरोइन के प्रोसेसिंग में काम आते हैं। डेविड ने उत्तम नगर स्थित किराए के फ्लैट में हेरोइन प्रोसेसिंग यूनिट लगा रखा था। किराए के फ्लैट और ड्रग तस्करों से बरामद खेप की कीमत 30 करोड़ रूपये है। किराए के फ्लैट से पुलिस ने ग्राइंडिंग मिक्सिंग, बर्तन और पैकिंग के सामान भी जब्त किया है।

डीसीपी स्पेशल सेल के मुताबिक सेल के दक्षिणी रेंज को ड्रग तस्करी की सूचना मिली थी। इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह की टीम इस सूचना पर काम कर रही थी। 8 सितंबर को सूचना मिली कि मंगोलपुरी शम्शान घाट के पास एक ड्रग तस्कर आने वाला है। इस सूचना के आधार पर एसीपी अत्तर सिंह की देखरेख में इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह के नेतृत्व में एसआई रंजीत, संजीव, आदित्य, एएसआई बलराज, हेडकांस्टेबल अजय, अनिल, नवीन, कांस्टेबल शिशुकांत और कांस्टेबल हरविंदर की टीम बनाई गई। पुलिस टीम ने उपरोक्त जगह पर जाल बिछा दिया। रात करीब 11 बजे ग्रे रंग की स्विफ्ट कार में एक शख्स पहुंचा। कुछ ही पल में वह एक बैग के साथ कार से बाहर आया तभी पुलिस ने उसे दबोच लिया। उसकी पहचान बाबू लाल उर्फ बबलू के रूप में हुई। उसके पास से 4 किलो हेरोइन बरामद किया गया। पूछताछ में पता लगा कि बाबू लाल को हेरोइन की खेप डेविड देता है। पुलिस ने डेविड को उत्तम वगर के मेट्रो पिलर के पास से गिरफ्तार किया। वह स्कूटी पर था। उसके पास मौजूद बैग से एक किलो हेरोइन बरामद किया गया। इसके बाद डेविड के उत्तम नगर के राम नगर स्थित किराए के फ्लैट में छापेमारी की गई जहां हेरोइन प्रोसेसिंग से लेकर पैकिंग तक के सामान कच्चा माल आदि बरामद हुआ। किराए के फ्लैट से 10 किलो सफेद पावडर, एक किलो फेनोबार्बिटल, 650 ग्राम कच्चा हेरोइन के अलावा मिक्सर ग्राइंडर औऱ अन्य बर्तन भी बरामद किए गए।

चिगौजी उर्फ डेविड ने बताया कि कच्चा हेरोइन से शुद्द हेरोइन की खेप बनाने के लिए वह इसे एसेटिक एनहाइड्राइड में मिलाकर 12 घंटे के लिए छोड़ देता है इसके बाद इसे गर्म किया जाता है। 2-3 घंटे के बाद इसमें सोडियम कार्बोनेट मिलाया जाता है। इसके 2-3 घंटे में द्रव्य और ठोस पदार्थ को अलग कर दिया जाता है। इस तरह हेरोइन प्रोसेसिंग संपन्न होता है।

हेरोइन की खेप पंजाब के ग्राहक दिल्ली आकर ले जाते थे। इसके अलावा यह खेप लंदन, श्रीलंका, यूएई, नेपाल, बांग्लादेश और दक्षिण अफ्रीका तक भेजा जाता था।  डेविड नाईजीरिया से जुलाई 2019 में भारत आया था। 6 माह के बिजनेस वीजा पर भारत आए डेविड ने शुरूआत में एक दूसरे तस्कर के साथ काम किया बाद में वह सीधे हेरोइन की तस्करी करने लगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here