दिल्ली में कार का दिमाग चोरी करने वाले नेटवर्क का खुलासा, देखिए वीडियो

0
390

नई दिल्ली, इंडिया विस्तार। दिल्ली की राजौरी गार्डन पुलिस ने महंगी कारों के ईसीएम चोरी करने वाले बड़े

नेटवर्क को ध्वस्त करने में कामयाबी पाई है। आपरेशन क्लीन के तहत् की गई इस कार्रवाई में टाटा, फोर्ड,

सेव्रोलेट जैसी कारों के 100 ईसीएम बरामद किए गए हैं। पुलिस ने ईसीएम चोरी के 100 मामलों को सुलझाने

का दावा किया है।

गौरतलब है कि दिल्ली के सीपी एस एन श्रीवास्तव ने क्राइम के पूरे नेटवर्क को पकड़ने के निर्देश दिए हैं। इसी

के तहत डीसीपी वेस्ट ने इंजिन कंट्रोल मॉडयूल(ईसीएम) चोरी के मामलो का अध्ययन किया गया। इसके बाद

जगह-जगह जाल बिछाए गए ताकि आपरेशन क्लीन कामयाब हो सके। 3 अक्टूबर को कांस्टेबल सुभाष और

कांस्टेबल पवन  पेट्रोलिंग पर थे। उसी समय स्कूटी सवार दो संदिग्ध लोगों को पब्लिक की मदद से पीछा कर

पकड़ा गया। ये दोनो राजौरी गार्डन निवासी हरमीत सिंह की मारूति इको कार की ईसीएम चोरी कर फरार

हो रहे थे।

पूछताछ में दोनों की पहचान अभिजीत पाल सिंह और तरूण के रूप में हुई। इन दोनों चोरो से पूरे नेटवर्क का

पता करने के लिए राजौरी गार्डन एसीपी सुदेश राणा की देखरेख और इंस्पेक्टर अनिल शर्मा के नेतृत्व में एसआई

संदीप कुमार, एएसआई कुलदीप सिंह, हेडकांस्टेबल रेशम सिंह कांस्टेबल महेन्द्र और सुनील की टीम बनाई गई।

पुलिस टीम ने पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ शुरू की। इसके साथ ही जांच में मनोविज्ञान, विज्ञान और तकनीक

की भी मदद लेनी शुरू की गई ताकि गिरोह के सभी बदमाशों को पकड़ा जा सके। यह गिरोह प्रतिदिन दो-तीन

ईसीएम की चोरी करते थे। यह ईसीएम कबाड़ी से लेकर विभिन्न जगहों पर बेचा जाता था। जांच के दौरान मायापुरी

के एक कबाड़ी दुकाम मालिक मोहम्मद अकरम की पहचान हुई। पता लगा अकरम थोक संख्या में ईसीएम

खरीदता है। पुलिस ने उसके दुकाम पर छापा मारकर 21 ईसीएम बरादम किए। पुलिस को पता लगा कि

अकरम की एक दुकान चावड़ी बाजार में भी है। वहां की गई छापेमारी में 76 ईसीएम बरामद हुए।

पुलिस अब उन ग्राहकों की पहचान करने में जुटी है जिन्होंने इनसे चोरी के ईसीएम खरीदे हैं।

 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now