शेल कंपनी बना आम आदमी पार्टी को दे दिया चंदा , 2 गिरफ्तार

0
84

नई दिल्ली, इंडिया विस्तार। शेल कंपनी के जरिये आम आदमी पार्टी को 2 करोड़ रुपये का चंदा देने वाले 2 लोगो को दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपियों में एक चार्टर्ड अकाउंटेंट सुधांशु बंसल है जबकि दूसरा उसका साथी मुकेश कुमार है।
पुलिस के मुताबिक ये दोनों जाली दस्तावेज पर शेल कंपनी बना कर उसके जरिये मनी लॉन्ड्रिंग और दूसरे अवैध काम करते थे। आर्थिक अपराध शाखा को रजिस्ट्रार ऑफ कम्पनी की तरफ से एक शिकायत दी गई। जिसमें चार कंपनी का नाम था ये कंपनियां गोल्डमाइन बिल्डकॉन प्राइवेट लिमिटेड, स्काइलाइन मेटल एंड एलाय प्राइवेट लिमिटेड,सन विज़न कंपनीज प्राइवेट लिमिटेड और इंफोलेन्स सॉफ्टवेयर सॉल्यूशन लिमिटेड थीं।

रजिस्ट्रार की तरफ से ये भी कहा गया कि इन चारों कंपनी की तरफ से 50-50 लाख रुपया 5 अप्रैल 2014 को आम आदमी पार्टी को दिया गया है। इस मामले में रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज ने स्वतः संज्ञान लिया और इन चार कंपनियों की जांच की। इस जांच में रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज ने पाया कि

1-ये चारों कंपनियां बोगस है, और जो पता इन्होंने रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज में दर्ज कराया है उस जगह पर है कंपनियां नही है।

2-इस कंपनी में प्रीमियम शेयर के जरिये खूब पैसे आये लेकिन वो पैसे कहाँ से आये इसकी जानकारी नही मिली।

3– रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज ने चारों कंपनियों के निदेशकों को नोटिस भेजा लेकिन सिर्फ एक कंपनी स्काइलाइन मेटल एंड अलॉय की तरफ एक शख्स आया और उसने कहा कि फ़ोटो और दस्तखत उसके नही है।

4-इसके बाद रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज की शिकायत पर आर्थिक अपराध शाखा ने नवम्बर 2015 में इन मामले में एक एफआईआर दर्ज की। और जांच शुरू की।

पुलिस की तफ्तीश में भी पता लगा की इन सभी कंपनी के जो पते सरकारी कागज़ों में दर्ज है वहा पर कंपनी नही मिली।
एफएसएल की जांच में ये भी पता लगा कि स्काइलाइन कंपनी के लिए जो दस्तावेज और दस्तखत का इस्तेमाल किया गया वो जाली थे।
आगे की जांच में पता लगा कि चार निदेशक योगेश मोहित और धर्मेंद्र सभी मुकेश कुमार के कर्मचारी हैं।
जो पैसे आम आदमी पार्टी को चंदे में दिए गए, उस्की जांच में पुलिस को पता लगा कि ये पैसा अंतरा पुरुकुल सीनियर लिविंग लिमिटेड के अकॉउंट से आये थे। इस मामले की छानबीन इन्कमटैक्स और प्रवर्तन निदेशालय के द्वारा भी की गई।
पुलिस की जांच में साफ हुआ कि गिरफ्तार दोनो आरोपी धोखाधड़ी से DIN प्राप्त किये, जाली दस्तावेज जुटाया और फ़ोटो भी मॉर्फ़ की हुई इस्तेमाल की। इसके बाद इन लोगो ने शेल कंपनी बनाई, और इन शेल कम्पनी के जरिये मनी लॉन्ड्रिंग की और दूसरे अवैध काम किये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

18 + 7 =