नेताजी के आगमन की अहम याद से जुड़ा है यह संकल्प स्मारक

0
57
नेताजी के आगमन फोटो पीआईबी

इतिहास में नेताजी के आगमन की एक महत्वपूर्ण घटना की याद में अंडमान और निकोबार कमांड के कमांडर-इन-चीफ लेफ्टिनेंट जनरल अजय सिंह ने 29 दिसंबर 2021 को नेताजी के आगमन के ठीक 78 साल बाद, एक संकल्प स्मारक राष्ट्र को समर्पित किया। यह स्मारक न केवल भारतीय राष्ट्रीय सेना के सैनिकों के संकल्प और उनके असंख्य बलिदानों के लिए एक श्रद्धांजलि है, बल्कि हमें स्वयं नेताजी द्वारा प्रतिष्ठापित मूल्यों, “निष्ठा, कार्तव्य और बलिदान” या “प्रतिबद्धता, कर्तव्य और बलिदान” जो भारतीय सशस्त्र बलों के लोकाचार और भारतीय सैनिक के संकल्प को रेखांकित करते हैं, की भी याद दिलाता है।

संकल्प स्मारक फोटो पीआईबी

भारत के स्वतंत्रता संग्राम की गाथा में दिनांक 30 दिसंबर 1943 का वक़्त एक विशेष स्थान रखता है। इसी दिन पोर्ट ब्लेयर में भारतीय ज़मीन पर पहली बार राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया था। यह भी महत्वपूर्ण है कि नेताजी 16 जनवरी 1941 को कोलकाता से ब्रिटिश निगरानी से बच निकले और लगभग तीन साल बाद 29 दिसंबर 1943 को सुबह 11:30 बजे भारतीय ज़मीन पर लौट आए और इसके अगले दिन पोर्ट ब्लेयर हवाई अड्डे पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया। आजाद हिंद की अनंतिम सरकार के प्रमुख और भारतीय राष्ट्रीय सेना के सर्वोच्च कमांडर के रूप में नेताजी की इन द्वीपों की यात्रा ने उनके वादे के सांकेतिक रूप से पूरा होने को इंगित किया कि भारतीय राष्ट्रीय सेना 1943 के अंत तक भारतीय धरती पर खड़ी होगी। इस ऐतिहासिक यात्रा ने भी अंडमान और निकोबार द्वीप समूह को “भारत का पहला मुक्त क्षेत्र” घोषित होने को चिह्नित किया।

29 दिसंबर 1943 को नेताजी के ऐतिहासिक आगमन का स्थान (सर्वश्री आनंद मोहन सहाय (मंत्रिस्तरीय रैंक के सचिव), कैप्टन रावत – एडीसी और कर्नल डीएस राजू (नेताजी के निजी चिकित्सक) के साथ, जो अब परिसर में वर्तमान रनवे के करीब अंडमान और निकोबार कमांड का एयर स्टेशन आईएनएस उत्कर्ष है। एक जापानी वायु सेना के विमान द्वारा भारतीय राष्ट्रीय सेना के सर्वोच्च कमांडर के रूप में उनके आगमन पर, नेताजी को भारतीय राष्ट्रीय सेना के सैनिकों द्वारा एयर फील्ड में एक औपचारिक गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया।

इस अवसर पर आयोजित समारोह के दौरान, कमांडर-इन-चीफ के नेतृत्व में भारत के एकमात्र क्वाड सर्विसेज कमांड के सैनिकों ने अन्य वरिष्ठ अधिकारियों, सैनिकों और परिवारों के साथ भारतीय राष्ट्रीय सेना के सैनिकों के बलिदान के सम्मान स्वरूप श्रद्धांजलि अर्पित की। यह कार्यक्रम इस अवसर के अनुरूप एक साधारण औपचारिक समारोह के तौर पर आयोजित किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

twenty − 7 =